यूपी में इंजीनियरिंग शिक्षा में सुधार के लिए उठाये जा रहे ऐसे कदम, मंत्री आशुतोष टंडन ने दी जानकारी

लखनऊ। यूपी में राजधानी लखनऊ समेत सभी जिलों में इंजीनियरिंग शिक्षा का स्तर सुधरे इसके लिए सरकार ने अभी तक क्या किया इस बारे में सोमवार को प्रवाधिक शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ने उपलब्धियां गिनायी। उन्होंने बताया कि
प्रदेश के औद्योगिकीकरण तथा विकास हेतु यह आवश्यक है कि प्रदेश में गुणवत्तापूर्ण तकनीकी मानव संसाधन का विकास किया जाए। इसके दृष्टिगत प्राविधिक शिक्षा विभाग के अन्तर्गत 3 तकनीकी विश्वविद्यालय, 14 इंजीनियरिंग कालेज 136 राजकीय पालीटेक्निक एवं 19 अनुदानित पालीटेक्निक संस्थाएं संचालित है। इसके अतिरिक्त 4 इंजीनियरिंग कालेज एवं 38 नवीन पालीटेक्निक संस्थाएं निर्माणाधीन है। विभाग द्वारा विगत एक वर्ष के कार्यकाल के दौरान प्राविधिक शिक्षा के क्षेत्र में कई नवीन पहल की गई है और महत्वपूर्ण उपलब्धियॅा भी प्राप्त की गई है।
प्राविधिक शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ने एनेक्सी स्थित मीडिया सेंटर में प्राविधिक शिक्षा विभाग की एक वर्ष की उपलब्ध्यिां बताते हुए और भी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष निर्माणाधीन 19 राजकीय पालीटेक्निकों एवं 17 छात्रावासों का हस्तानान्तरण कर जनोपयोगी बनाया गया। तकनीकी शिक्षा को दूर दराज व असेवित क्षेत्रों तथा महिलाओं तक पहुॅचाने के संकल्प के साथ तीन सह-शिक्षण (गोरखपुर के सहजनवा तथा इलाहाबाद के बारा एवं फाफामऊ) व दो पूर्णत: महिला राजकीय पालीटेक्निकों (जनपद बस्ती एवं अलीगंज) की स्थापना को स्वीकृति देते हुए रू. 11 करोड की धनराशि अवमुक्त की गई है। पालीटेक्निक छात्राओं को आवासीय सुविधा प्रदान करने के लिए 15 नवीन गल्र्स हास्टल की स्थापना को मंजूरी देते हुए 1043 लाख की धनराशि अवमुक्त की गई है। 19 राजकीय पालीटेक्निक संस्थाओं में पूर्व से स्थापित वर्चुअल क्लास रूम्स में 2डइचे की लीज-लाइन की सुविधा प्रदान करने के लिये 1.17 करोड तथा 15 अन्य राजकीय पालीटेक्निकों में नए वर्चुअल क्लासरूम्स की स्थापना हेतु रू0 82.00 लाख की धनराशि स्वीकृत की गयी । 43 राजकीय पालीटेक्निकों की तकनीकी गुणवत्ता में सुधार एवं सुदृढीकरण हेतु रू0 726.00 लाख की लागत मूल्य के 1904 कम्प्यूटरों के क्रयादेश, जेम पोर्टल के माध्यम से निर्गत किये गये है, जिनकी आपूर्ति प्रारम्भ हो गयी है।
एकेटीयू का प्रधानमंत्री ने किया उद्घाटन, नये कोर्सों को मिला बढ़ावा
प्राविधिक शिक्षा मंत्री ने बताय कि एकेटीयू को अपने भवन में संचालित कराया गया, जिसका लोकार्पण 20 जून, 2017 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र के हाथों से हुआ। इसके अलावा विश्वविद्यालय के अंतर्गत एमटेक और पीएचडी को बढावा देने के लिये सेंटर फार एडवांस स्टडीज, लखनऊ एवं यूपी इन्स्टीट्यूट आफ डिजाइन, नोएडा में शैक्षिक सत्र 2017-18 से शैक्षणिक कार्य प्रारम्भ किये गये। प्राविधिक शिक्षा मंत्री ने बताया कि दो तकनीकी विश्वविद्यालयों एवं 14 इंजीनियरिंग कालेजों की अवस्थापना सुविधाओं के विकास के लिए पं. दीनदयाल उपाध्याय गुणवत्ता सुधार योजना के माध्यम से 200 करोड की आर्थिक सहायता दिलाई गई है।
कन्नौज, सोनभद्र एवं मैनपुरी में कालेजों का निर्माण कार्य पूरा
मंत्री ने बताया कि कन्नौज, सोनभद्र एवं मैनपुरी में इंजीनियरिंग कालेजों के प्रथम फेज के भवनों का निर्माण कार्य पूर्ण कराया गया एवं कालेजों की कक्षायें अपने-अपने परिसरों में संचालित करायी गयी हैं। प्रदेश के जनपद मिर्जापुर एवं प्रतापगढ़ में राज्य सेक्टर से 2 नये इंजीनियरिंग कालेजों की स्थापना के लिए 8 करोड एवं 4 करोड की धनराशि अवमुक्त की गयी। कालेजों का निर्माण कार्य प्रगति पर है। राष्ट्रीय उच्चत्तर शिक्षा अभियान (रूसा) के अंतर्गत जनपद बस्ती एवं गोण्डा में एक-एक इंजीनियरिंग कालेज की स्थापना करायी जा रही है एवं इनके निर्माण हेतु रू. 17.26 करोड की धनराशि प्रति कालेज की दर से अवमुक्त की गयी है। निर्माण कार्य प्रगति पर है। उन्होंने बताया कि हरकोर्ट बटलर प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, कानपुर के सुदृढीकरण एवं विकास हेतु रूसा के अन्तर्गत रुपए 55.00 करोड की धनराशि के सापेक्ष प्रथम किश्त के रूप में रु 16.50 करोड की धनराशि अवमुक्त की गयी, जिसमें राज्यांश की धनराशि 3.40 करोड सम्मिलित कर कुल 19.90 करोड की धनराशि अवमुक्त की गयी है।
आईआईटी, एचबीटीयू व आईआईटी व एकेटीयू के मध्य साइन हुए एमओयू
श्री टंडन ने बताया कि इनोवेशन एवं इनक्यूबेशन को बढावा देने के लिये आईआईटी तथा एचबीटीयू एवं आईआईटी तथा ए0के0टी0यू0 के मध्य एम0ओ0यू0 हस्ताक्षरित किये गये है। मदन मोहन मालवीय टेक्निकल यूनिवर्सिटी गोरखपुर के द्वारा राइक्यूस विश्वविद्यालय जापान, ई0एन0ई0ए0 इटली तथा स्पेन की एक यूनिवर्सिटी (न्दपअमतेपकंक ब्ंतसवे प्प्प् क्म डंकतपकद्ध के साथ एम0ओ0यू0 हो चुका है तथा एशियन इन्स्टीट्यूट आफ टेक्नालाजी बैंकाक एवं वारसा मैनेजमेन्ट यूनिवर्सिटी पोलैंड के साथ एम0ओ0यू0 प्रक्रियाधीन है। उन्होंने बताया कि लोक कल्याण संकल्प पत्र में व्यक्त किए गए संकल्प को पूरा करने हेतु राजकीय पालीटेक्निकों एवं इंजीनियरिंग संस्थानों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को नि:शुल्क डाटा उपलब्ध कराने के लिये वाई-फाई की सुविधा स्थापित की जा रही है। अब तक 33 राजकीय पालीटेक्निको में उक्त सुविधा प्रदान कर दी गयी है तथा शेष में प्रक्रियाधीन है।
समय से घोषित कराया गया परिणाम
प्राविधिक शिक्षा मंत्री ने बताया कि पालीटेक्निक संस्थानों में सेमेस्टर सिस्टम लागू किये जाने के कारण प्रत्येक वर्ष परीक्षा सम्पन्न होने के उपरान्त निर्धारित अवधि के भीतर परीक्षाफल घोषित किया जाना चुनौतीपूर्ण कार्य हुआ करता था, जिसके कारण परीक्षाफल अत्यन्त विलम्ब से घोषित होता था। इस वर्ष विभाग द्वारा 45 दिन कीे रिकार्ड समयावधि के अन्दर परीक्षाफल घोषित किया गया। इसी प्रकार इतिहास में पहली बार 2 अक्टूबर 2017 को सभी राजकीय, अनुदानित एवं निजी पालीटेक्निकों में एक साथ दीक्षान्त समारोह आयोजित कर लगभग 45000 उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को डिप्लोमा प्रमाण-पत्र प्रदान किये गये। उन्होंने बताया कि विभाग के डिग्री एवं डिप्लोमा सेक्टर के मध्य बेहतर समन्वय एवं कार्य कुशलता हेतु महानिदेशक, प्राविधिक शिक्षा का पद सृजित किया गया है, जो कि आई0ए0एस0 संवर्ग का है और शीघ्र तैनाती प्रस्तावित है। राजकीय इंजीनियरिंग कालेजों में शिक्षण की गुणवत्ता में सुधार हेतु प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर एवं असिस्टेंट प्रोफेसर के वर्षों से रिक्त चल रहे पदों पर 280 नियमित भर्तियॉ की गई है।
इन संस्थानों निदेशक की नियुक्ति होगी जल्द
एचबीटीयू में कुलपति तथा यूपीटीटीआई कानपुर, राजकीय इंजीनियरिंग कालेज बॉदा, आजमगढ़, बिजनौर, अम्बेडकरनगर, केएनआईटी सुल्तानपुर, आईईटी लखनऊ, यूपी इन्स्टीट्यूट आफ डिजाइन नोएडा, सेन्टर फार एडवांस स्टडीज लखनऊ में नये निदेशकों की नियुक्तियॉ की गयी हैं। डा0 अम्बेडकर इन्स्टीट्यूट आफ टेक्नालाजी फार हैण्डीकैप्ड, कानपुर में निदेशक की नियुक्ति प्रक्रियाधीन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ten − 3 =