साल नहीं होगा बर्बाद फेल छात्र, छात्राएं हो सकते हैं पास

google image

लखनऊ। माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) ने हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा 2018 के परिणाम रविवार को घोषित कर दिए हैं। पिछले पांच साल के परिणामों की तुलना में इस साल छात्रों के पास होने का प्रतिशत सबसे कम है। अभी तक मिले आंकड़ों के मुताबिक 10वीं की परीक्षा में शामिल हुए परीक्षार्थियों में से 75 प्रतिशत छात्र ही पास हुए हैं। वहीं, 12वीं में पास होने वाले छात्रों का आंकड़ा 72 प्रतिशत है। फेल हुए छात्रों को निराश होने की जरूरत नहीं है। फेल होने के बावजूद उनके पास कई रास्ते खुले हुए हैं। फेल छात्र अपना साल बर्बाद किए बिना 10वीं और 12वीं पास कर सकते हैं। फेल छात्र कभी भी एनआइओएस (नेशनल स्कूल ऑफ ओपन स्कूलिंग) में दाखिला ले सकते हैं। एनआइओएस हर हफ्ते परीक्षाएं आयोजित कराता है। इसमें दाखिला लेना जितना आसान है उतना ही इस बोर्ड की परीक्षाओं को पास करना भी आसान है। एनआइओएस बोर्डी की 10वीं-12वीं की परीक्षा में फेल छात्रों के लिए स्ट्रीम-2 की परीक्षाओं में शामिल होने का मौका है। इसके लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने दिशा निर्देश भी जारी किए हैं। इस बोर्ड में देश के किसी भी बोर्ड के छात्र अपना पंजीयन करा सकते हैं। बोर्ड की परीक्षा में जो छात्र किसी विषय में उत्तीर्ण हैं तो उन विषयों की परीक्षा फिर से नहीं देनी होगी। ऑनलाइन परीक्षा की सुविध एनआइओएस ने छात्रों को ऑनलाइन परीक्षा दिलाने की भी योजना बनाई है। इसके लिए अभी शिक्षकों के प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 − eleven =