रोटोमैक घोटाले के मामले में विक्रम कोठारी और उसका बेटा राहुल गिरफ्तार

लखनऊ। 37०० करोड़ रुपए के बैंक लोन को न चुकाने के मामले में सीबीआई ने गुरुवार को रोटोमैक के मालिक विक्रम काेठारी और उसके बेटे राहुल को गिरफ्तार किया है। पिछले कई दिनों से सीबीआई केस दर्ज कर जांच में जुटी हुई थी। हालांकि विक्रम लोन के मामले में विक्रम काोठारी पर बड़ा बकाया उजागर होने के बाद काोठारी ने एक अपना वीडियो बयान भी जारी किया था लेकिन सीबीआई ने गिरफ्तार करके ही पूछताछ करने का निर्णय लिया है। वहीं सूत्र बताते हैं कि विक्रम काोठारी रोटोमैक कंपनी से जुड़े सभी दस्तावेजों को भी सीबीआई खंगाल रही है। कंपनी की बैलेंस सीट की भी जांच की जा रही है। विक्रम काोठारी और उसके बेटे राहुल कोठारी की गिरफ्तारी के बारे में समाचार एंजेसी एएनआई ने पुष्टि भी की है।
 बैंक ऑफ बड़ौदा की शिकायत पर शुरू हुई कार्रवाई
बता दें की सीबीआई ने काोठारी के खिलाफ कार्रवाई बैंक ऑफ बडौदा की शिकायत पर की है। बैंक की ही शिकायत पर वक्रम कोठारी, साधना कोठारी, राहुल कोठारी और अज्ञात बैंक मालिकों के खिलाफ केस दर्ज किया था। इस दौरान सीबीआई ने यह भी बताया कि ‘रोटोमैक के लिए ब्याज देनदारी सहित कुल बकाया राशि 3695 करोड़ रुपये की है।
काेठारी पर मनी लॉनड्रिंक के तहत भी दर्ज हुआ केस
बीते मंगलवार को इनकम टैक्स ने विभाग ने भी जहां सभी खातों को सीज किया था वहीं सीबीआई ने छाप्ोमारी भी की थी। जबकि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने काोठारी पर मनी लॉन्ड्रिंग के तहत केस दर्ज किया है।

सीबीआई ने कोठारी की पत्नी से भी की पूछताछ
सीबीआई ने कोठारी की पत्नी और बेटे राहुल से भी पूछताछ की है। जानकारी के मुताबिक सीबीआई की जो रिपोर्ट है उसे अनुसार गेंहूं के लिए लिया गये लोन के पैसों को रायपुर के एक खाते में भेजा गया और वहां से वो पैसा सिगापुर ट्रांसफर किया गया। विक्रम कोठारी ने बैंकों से लिए पैसे से अपने लिए हीरे खरीदे और लेन-देन के नाम पर अपनी ही दूसरी कंपनियों में पैसा भेजा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × 1 =