यूपीकोका विधेयक पास, सीएम ने कहा नहीं होगा दुरुपयोग, विपक्ष ने सदन का किया बहिष्कार

लखनऊ। विपक्षी दलों की ओर से प्रदेश सरकार की पर जारी हमले की बीच गुरुवार को यूपीकोका विधेयक पास हो गया। लेकिन इस बीच विपक्ष ने सदन का बहिष्कार कर दिया तो किसी ने यूपीकोका को उत्तपीड़न करने वाला विधेयक बताया। लेकिन बिल पास होते ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस बात का भरोसा दिलाया कि यूपीकोका दुरुपयोग नहीं होगा। सीएम ने कहा कि जो वास्तव में दोषी होगा उसी पर इस कानून का प्रयोग किया जायेगा।
प्रदेश सरकार ने विधानसभा में यूपीकोका विधेयक बुधवार को ही पेश कर दिया था। जिसके बाद गुरुवार को इस विधेयक पर चर्चा होनी थी। लेकिन चर्चा के दौरान विपक्ष ने इसका बहिष्कार दिया। नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने यूपीकोका का विरोध करते हुए सदन की कार्रवाई का बहिष्कार कर दिया। उन्होंने कहा कि यूपीकोका विधेयक अल्पसंख्यकों, पिछड़ो और दलितो के साथ पत्रकारों का भी उत्पीड़न करने वाला है। वहीं सपा के बाद कांग्रेस व बसपा ने भी विधेयक को जनविरोधी करार देते हुए सदन से बहिर्गमन किया। संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि विपक्ष विधेयक के प्रावधानों की गलत व्याख्या कर रहा है। संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने विधेयक पर विपक्ष की आपत्तियों को खारिज करते हुए सदन में विधेयक पारित करने का प्रस्ताव रखा जिसे ध्वनिमत से पारित कर दिया। इससे पहले विधेयक को विचार के लिए रखते हुए सीएम योगी ने कहा कि विपक्षी दल सर्वाधिक वॉकआउट कानून-व्यवस्था के मुद्दे पर करते हैं, फिर यूपीकोका का विरोध क्यों? हम गारंटी देते हैं कि भाजपा ने किसी कानून का न तो दुरुपयोग किया है और न ही करेगी। विपक्षी नेताओं की तरफ से उठ रही आवाज का जिक्र करते हुए योगी ने कहा कि अपराध गरीब और कमजोर नहीं करते। यूपीकोका से उन लोगों को चितित होने की जरूरत है जो अपराधियों को संरक्षण देते हैं। इससे अपराधियों का सिडिकेट ध्वस्त किया जाएगा।