यूपी टीईटी की ऑनलाइन निशुल्क क्लासें शुरू, लखनऊ डॉयट की सराहनीय पहल, निदेशक ने की शुरूआत

लखनऊ डॉयट पर गुरूवार को डॉयट प्राचार्य डॉ पवन सचान की मौजूदगी में निशुल्क टीईटी ऑनलाइन क्लास की शुरूआत करते हुए निदेशक डॉ सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह

UPTET: प्रदेश सरकार की ओर से गरीब व पिछड़े वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए संचालित की गई  निःशुल्क अभ्युदय कोचिंग की तर्ज पर निदेशक बेसिक शिक्षा के संरक्षण में उप शिक्षा निदेशक/प्राचार्य, जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान लखनऊ के निर्देशन में निःशुल्क यूपी टीईटी की ऑनलाइन कक्षाओं की शुरूआत हो गयी है। गुरूवार को इसकी शुरूआत निदेशक डॉ सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर ने किया। इस बारे में बताया गया कि   टीईटी की तैयारी के लिए डायट लखनऊ की ओर से विषयवार प्रतिमाह 6 वीडियो का निर्माण किया जाएगा। 25 जुलाई तक कुल 24 वीडियो विषयवार विडीओज़ निर्मित किए जाएंगे। आगामी 20 अप्रैल को शुरुआती तौर पर निःशुल्क ऑनलाइन कक्षाओं के लिए रजिस्टर्ड लगभग 350 अभ्यर्थियों के लिए प्रारंभिक परीक्षा हेतु मॉडल क्वेश्चन पेपर पर आधारित टेस्ट की शुरूआत होगी।

विषयवार तैयार होंगे मॉडल पेपर

 डॉयट की टीम की ओर से एक दर्जन विषय वार मॉडल पेपर तैयार किए जाएंगे। साथ ही साथ 10 क्विज भी कराए जाने की योजना बनाई गई है।  निदेशक, बेसिक शिक्षा एवं एससीईआरटी, उत्तर प्रदेश द्वारा डायट लखनऊ द्वारा टीईटी की तैयारी के लिए निर्मित वीडियो श्रृंखला को सराहनीय बताया। उन्होंने कहा कि इन शैक्षिक वीडियो, मॉडल प्रश्न पत्रों एवं टेस्ट परीक्षाओं से आकांक्षी छात्र अवश्य लाभान्वित होंगे।

350 गरीब अभ्यर्थियों को मिलेगा लाभ

इस अवसर पर डॉक्टर पवन सचान उप शिक्षा निदेशक/प्राचार्य डायट लखनऊ द्वारा अवगत कराया गया कि अब तक उनकी टीम के द्वारा जनपद लखनऊ एवं अन्य जनपदों के 350 से अधिक अभ्यर्थियों को निःशुल्क कोचिंग एवं रीडिंग मटेरियल उपलब्ध कराने हेतु रजिस्टर्ड किया जा चुका है। अभी कई अभ्यर्थियों की ओर से रजिस्ट्रेशन के लिए अनुरोध किया जा रहा है। इस हेतु उन्हें डायट लखनऊ के यूट्यूब चैनल डॉयट लखनऊ के माध्यम से एवं वेबसाइट www.dietlucknow.org के माध्यम से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। डॉ पवन सचान ने बताया कि डायट लखनऊ का प्रयास है कि अधिक से अधिक अभ्यर्थियों तक इस प्रयास का लाभ पहुंचाया जा सके, तथा अधिक से अधिक अभ्यर्थी टीईटी परीक्षाओं में अच्छे अंको से उत्तीर्ण हो सकें। तभी डायट का प्रयास फलीभूत हो सकेगा।