यूपी पुलिस ने मनाया झंडा दिवस, मुख्यमंत्री को डीजीपी ने स्टीकर लगाकर किया शुभारंभ


लखनऊ। यूपी पुलिस ने मंगलवार को राजधानी समेत प्रदेश भर के पुलिस कार्यालयों में झंडा दिवस मनाया। इस मौके पर डीजीपी मुकुल गोयल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पुलिस झंडे का स्टीकर लगाकर इसका शुभारंभ किया। इसके बात पुलिस की सभी शाखाओं के प्रमुखों ने अधीनस्थों को स्टीकर लगाए। पुलिस मुख्यालय, रिजर्व पुलिस लाइन, राजकीय रेलवे पुलिस कार्यालय सहित सभी जगह पुलिस का झंडा भी फहराया गया। लखनऊ के पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने झंडा फहराने के बाद रिजर्व पुलिस लाइन में संबोधन दिया। उन्होंने झंडा दिवस के महत्व और उसके इतिहास की जानकारी पुलिसकर्मियों को दी।

1952 से चली आ रही है झंडा दिवस की परंपरा
यूपी पुलिस के इतिहास में 23 नवम्बर का दिन विशेष महत्व रखता है। इस दिन को ‘पुलिस झंडा दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। 23 नवम्बर 1952 से हर साल सैनिक कल्याण के लिए झंडे के स्टीकर जारी किए जाते हैं। पुलिस झंडा दिवस पर पुलिस मुख्यालयों व कार्यालयों, पीएसी वाहिनियों, क्वार्टर गार्द, थानों, भवनों व कैम्पों पर पुलिस ध्वज फहराए जाते हैं।

प्रथम प्रधानमंत्री ने दिया था पौराणिक महत्व वाला झंडा
पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक कुरुक्षेत्र में कौरवों और पांडवाें के बीच हुए धर्म युद्ध में अर्जुन के रथ पर भी ध्वज पताका था। ध्वज को धर्म के अधर्म पर विजय की प्रेरणा के तौर पर माना जाता है। ध्वज कर्तव्य का पाठ और मूल्यों के लिए संघर्ष, समर्पण सिखाता है। पुलिस भी समाज में बुराई पर अच्छाई की जीत के लिए काम करती है। इसीलिए पुलिस और पीएसी को उनके शौर्य के लिए सम्मानित करते हुए 23 नवम्बर 1952 को देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने उत्तर प्रदेश पुलिस को ‘पुलिस कलर’ (पुलिस ध्वज) प्रदान किया था। तभी पुलिस इसे गौरवशाली दिन के रूप में मनाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fourteen − 4 =