लखनऊ में बड़ा रेल हादसा कराने की थी तैयारी, कोशिश नाकाम, 3०8 पेन्डरोल क्लिप थे गायब

25 मीटर ट्रैक से निकाली गयी थी 3०8 पेन्डरोल क्लिप
-सूचना मिलते ही पहुंचे अधिकारियों की सूझबूझ से टला हादसा

लखनऊ। लखनऊ में एक बड़ा रेल हादसा कराने की कोशिश रविवार को हुई। लेकिन रेलवे अधिकारियों की सजगता से ये कोशिश नाकाम कर दी गयी। किसी ने 25 मीटर रेलवे ट्रैक से पेन्डरोल क्लिप ही निकाल दी। ऐसे में ट्रेन गुजरने से पहले ही रेलवे अधिकारियों को सूचना मिली तो मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने सभी ट्रेनों को स्थागित करवा दिया। डालीगंज व बादशाह नगर के बीच हुई इस घटना को देखने के बाद अधिकारियों के होश उड़ गये। रेलवे अधिकारियों ने बताया करीब रविवार को करीब साढ़े चार बजे इस बात की जानकारी मिली हालांकि पेन्डरोल क्लिप  को निकालने का काम पहले ही देर रात कर लिया गया होगा।
पेट्रोलिंग के दौरान पता चला गायब है क्लिप
पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबधक राजीव अग्रवाल ने बताया कि सुबह करीब साढ़े चार बजे पेट्रोलमैन संजय और शिवशंकर ने मध्य रेलवे डालीगंज व बादशाह नगर की बीच ट्रैक का निरीक्षण किया। जिसमें पहले पता चला कि 77 स्लीपरों की पेन्डरोल क्लिप गायब है। जिसकी उन्होंने तत्काल सूचना अपने संबधित अधिकारियों को दी।
अधिकारियों ने जांच की तो पता चला 3०8 क्लिप हैं गायब
सूचना मिलने के बाद घटनास्थल पर पहुंचे इंजीनियरिग, जीआरपी एवं आरपीएफ की टीमों ने संयुक्त रुप से जॉंच की तो पता चला कि 3०8 क्लिप गायब हैं। मौके पर मौजूद अधिकारियों ने कहा कि इसमें कोई बड़ा साजिशकर्ता हो सकता है। इस तरह से पूरे ट्रैक से एक साथ क्लिप गायब नहीं हो सकते हैं। अधिकारियों ने कहा कि पूरे मामले की जांच करायी जा रही है।
पेट्रोलिंग करने वाले दोनो कर्मचारी सम्मानित
पेट्रोलमेन संजय एवं शिवशंकर की कार्य के प्रति निष्ठा एवं समर्पण की सराहना करते हुए महाप्रबंधक राजीव अग्रवाल ने दोनों कर्मचारियों को नगद पुरस्कार देकर उनका उत्साहवर्धन किया। साथ ही दोनो कर्मचारियों की पीठ थपथपाते हुए कहा कि इसी तरह से हमेशा सजग रहेंगे तो ऐसे हादसों को रोका जा सकता है।
55 मिनट में दुरुस्त किया गया ट्रैक
क्लिप गायब होने के बाद जब मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने सभी ट्रेनों को रोक दिया। इस बारे में महाप्रबंधक ने बताया कि इस घटना के कारण रेलवे ट्रैक पर रेलगाड़ियों का आवागमन साढ़े चार बजे से 5:25 तक बाधित रहा। उन्होंने कहा कि रेल कर्मचारियों की तत्परता एवं सूझबुझ से एक गंभीर हादसा होने से बचाया जा सका है।
रेल सुरक्षा को लेकर नहीं चलेगा समझौता
महाप्रबंधक ने कहा कि रेल संरक्षा के सम्बन्ध में किसी भी प्रकार का समझौता किसी भी स्तर पर स्वीकार्य नही है। दुर्घटनाओं को रोकने के लिए अधिकारियों एवं कर्मचारियों को आपसी समन्वय के साथ गंभीरता से नियमों का पालन करना होगा। लापरवाही करने वाले कर्मचारियों और अधिकारियों को बख्शा नहीं जायेगा।
रेलवे के ये अधिकारी पहुंचे मौके पर
घटना की सूचना मिलते ही वरिष्ठ मण्डल इंजीनियर (समन्वय) जितेन्द्र कुमार, वरिष्ठ मण्डल इंजीनियर (।।।) पावस यादव, वरिष्ठ मण्डल वाणिज्य प्रबंधक एस.के.सिह, वरिष्ठ मण्डल परिचालन प्रबंधक डा. वीणा कुमारी वर्मा,वरिष्ठ मण्डल यांत्रिक इजीनियर (कैरेज एण्ड वैगन) राजेश अवस्थी, वरिष्ठ मण्डल विद्युत इंजीनियर राघवेन्द्र कुमार , वरिष्ठ मण्डल विद्युत इंजीनियरध्टीआरडी जितेन्द्र यादव,एवं अन्य अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।
घटना के बाद अधिकारियों ने की सजगता से जांच
रेलवे ट्रैक दुरुस्त करने होने के बाद भी अधिकारियों ने पूरे क्ष्ोत्र का सजगता से चेक किया। जिसमें पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबधक राजीव अग्रवाल ने मुख्य यांत्रिक इंजीनियर अजय कुमार सिह , लखनऊ मंडल के अपर मंडल रेल प्रबंधक मुकेश एवं अन्य शाखाधिकारियों के साथ गोमतीनगर एवं बादशाहनगर रेलवे स्टेशनों का निरीक्षण किया । अपने निरीक्षण के दौरान उन्होंने स्टेशन के सर्कुलेटिग एरिया, प्लेटफार्म, वेटिग रूम , फुटओवर ब्रिज , प्रकाश व्यवस्था , रिजर्वेशन सेंटर, पेयजल व्यवस्था एवं अन्य यात्री सुविधाओं का गहन निरीक्षण किया । निरीक्षण के दौरान उन्होंने गोमतीनगर स्टेशन पर हो रहे विकास कार्यों के बारे में सम्बंधित अधिकारियों को दिशा निर्देश दिया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 + 15 =