तो पूरे प्लानिंग के साथ रेलवे ट्रैक से निकाले गये थे क्लिप, जांच में जुटी एटीएस

लखनऊ। लखनऊ में रेलवे ट्रैक से क्लि्प निकालकर बड़े ट्रेन हादस्ो की साजिश को भले ही नाकाम कर दिया गया हो। लेकिन अभी तक इस बारे में नहीं पता चल सका है कि इसमें असली दोषी कौन है। वहीं सोमवार को एटीएस ने इस मामले की जांच भी शुरू कर दी है। एटीएस आईजी असीम अरूण ने माना जिस तरह से रेलवे ट्रैक की क्लिप निकाले गये हैं उससे ये कोई साधारण घटना नहीं है। उन्होंने बताया कि जांच शुरू कर दी गयी है। घटना स्थल के आसपास लगे सीसी टीवी कैमरों को भी खंगाला जा रहा है। वहीं पूर्वोत्तर रेलवे की डीआरएम ने भी घटना को सामान्य नहीं माना है उन्होंनें गंभीरता से लेते हुए पूरे प्रकरण की जांच की बात कही है। डीआरएम विजय लक्ष्मी ने कहा कि हमारा एक ही मकसद है कि जल्द से जल्द इस घटना का खुलासा हो। उन्होंने ये भी कहा कि किसी भी बड़ी साजिश से इनकार नहीं किया जा सकता है।
ट्रेन गुजरती तो हो सकता था विकराल हादसा
बादशाह नगर और डालीगंज के बीच जिस तरह से 25 मीटर रेलवे ट्रैक से 3०8 क्लिप गायब थे। उस दौरान अगर कोई ट्रेन गुजरी होती तो एक बड़ा हादसा हो सकता था। इस बारे में इंडिया न्यूज टाइम्स से बातचीत के दौरान डीआरएम विजय लक्ष्मी ने माना कि अगर ट्रेन गुजरती तो हादसा बड़ा हो सकता था। उन्होंने यह भी कहा कि इससे पहले कभी इस तरह की घटना सामने नहीं आयी।
रविवार को हुई थी घटना
बीते रविवार को सुबह ट्रैक पर पेट्रोलिंग के दौरान जानकारी मिली थी कि ट्रैक से क्लिप गायब है। दो ट्रैकमैनों की नजर पड़ने के बाद रेलवे के उच्च अधिकारियों को इसकी सूचना भी दी गयी थी। जिसके बाद 55 मिनट तक कई ट्रेनों को रोका गया था। इस दौरान 3०8 क्लिप गायब थे जिसे अधिकारियों के भी होस उड़ गये थे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 − 2 =