कोरोना काल में बच्चों और अभिभावकों को जबरन नहीं बुला सकते हैं स्कूल

OLD PIC

लखनऊ। प्राइमरी स्कूलों में अब बच्चे नहीं उनके अभिभावकों को जबरन स्कूल नहीं बुलाया जा सकेगा। इस संबंध विभाग के उच्च अधिकारियों ने स्पष्ट किया है, कोरोना काल चल रहा है ऐसे में किसी भी अभिभावक और बच्चे को स्कूल  नहीं बुलाया जायेगा। दरअसल मौजूदा हालात में शिक्षक स्कूल लगातार जा रहे हैं, ऐसे में दो बच्चों व उनके अभिभावकों को स्कूल बुलाने की तैयारी कुछ जिलों के बीएसए कर रहे हैं। इसकी जिम्मेदारी भी हेडमॉस्टर को दी जा रही है।  हालांकि कुछ जिलों के बेसिक शिक्षा अधिकारियों का कहना है कि प्रत्येक कक्षा और विषय के लिए मासिक पंचांग के अनुसार शैक्षणिक सामग्री साझा करनी होगी। विभाग की ओर से प्रेषित कक्षावार, विषयवार शैक्षिक सामग्री, कंटेंट अभिभावकों के व्हाट्सएप पर भेजनी होगी। प्रत्येक शिक्षक प्रतिदिन अपनी कक्षा के न्यूनतम दो बच्चों के अभिभावकों को विद्यालय बुलाकर बच्चों की पढ़ाई के बारे में चर्चा करेंगे। लेकिन कोरोना काल को देखते हुए भी बुलाया नहीं जा सकता है, फिलहाल सभी स्कूल 20 मई तक बंद कर दिए गये हैं।