फर्जी डिग्री वाले शिक्षकों का वेतन बंद, बर्खास्तगी की है तैयारी

अगले सप्ताह शुरू हो जाएगी प्रक्रिया, जिले में चिन्हित किए गए है 52 शिक्षक

Lucknow। फर्जी डिग्री के आधार पर नौकरी करने वाले बेसिक शिक्षा विभाग के इटावा के स्कूलों में कार्यरत रहे 52 शिक्षकों की नौकरी पर तलवार लटक रही है। इनकी बर्खास्तगी की तैयारी है। अगले सप्ताह से कार्रवाई की गति तेज हो जाएगी। जिले में ऐसे 52 शिक्षक चिन्हित किए गए हैं। इन पर कार्रवाई की शुरुआत भी कर दी गई है। इनका वेतन रोक दिया गया है तथा नोटिस जारी कर दी गई है।
इस प्रकरण में जिले में जिन 52 शिक्षकों को चिन्हित किया गया था। उनमें से 2० शिक्षक अन्तर्जनपदीय तबादला नीति के अन्तर्गत तबादला कराकर दूसरे जिलों में जा चुके हैं। इनके लिए उन जिलों के बीएसए को लिखा गया है। इटावा में कार्यरत ऐसे 25 शिक्षकों को नोटिस जारी कर दिया गया है की उनकी सेवा समाप्त क्यों न कर दी जाए। सात शिक्षिकों की जांच जारी है। बीएसए ओपी सिंह ने बताया है कि इन शिक्षकों का वेतन रोक दिया गया है। इन्हें जो नोटिस दिया गया है उसके जबाव का इंतजार किया जा रहा है। चुनावी व्यवस्तताओं के बाद अगले सप्ताह कार्रवाई शुरु कर दी जाएगी। तब तक शेष बचे सात शिक्षकों की जांच भी पूरी हो जाएगी। इस प्रकरण को लेकर हड़कम्प मचा हुआ है। एसआईटी जांच में आगरा यूनीवर्सिटी की डिग्रियां फर्जी पाए जाने के बाद यह कार्रवाई की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 − six =