लखनऊ के हरौनी स्टेशन पर रेलवे ने दी गलत सूचना, युवक की कटकर मौत

लखनऊ। हरौनी रेलवे स्टेशन पर सोमवार लापरवाह रेलवे कर्मचारियों की वजह से बड़ा हादसा हो गया। प्लेट फार्म के गलत एनाउंसमेंट से वहां भगदड़ मच गयी और टे्रन की चपेट में आने से एक युवक की मौत हो गयी। रेलवे कर्मचारियों की लापरवाही से नाराज सकैड़ों यात्रियों ने स्टेशन मास्टर की पिटाई कर तोडफ़ोड़ और हगांमा शुरू कर दिया। घटना की सूचना पाकर पहुंची रेलवे पुलिस के अलावा कई थानों की फोर्स ने किसी तरह स्थिति को नियन्त्रित किया। बाद में मौके पर पहुंचे उत्तर रेलवे के एडीआरएम कासिम एमएन अहमद के आश्वासन के बाद मामला शान्त हुआ और ट्रेनों का संचालन शुरू हो सका। उधर घटना की जांच के आदेश दे दिए गए हैं।
कानपुर से लखनऊ आने वाली मेमू ट्रेन सोमवार सुबह बंथरा इलाके के हरौनी रेलवे स्टेशन पर पहुंचने वाली थी। तभी स्टेशन पर उसको प्लेटफार्म नंबर 4 पर आने का एनाउंसमेंट हुआ। स्टेशन के नजदीक ट्रेन आते ही उसका एनाउंसमेंट होने पर ट्रेन का इंतजार कर रहे यात्री आनन-फानन प्लेटफार्म नंबर चार की ओर जाने लगे। लेकिन ट्रेन तीन न बर पर आ गई। ट्रेन को प्लेटफार्म नंबर 3 पर आते देख यात्रियों में भगदड़ मच गई और उन्होंने किसी तरह भागकर अपनी जान बचाई। इसी बीच अपने पिता बाबूलाल (55), मां सरस्वती के साथ पिता की दवा लेने लखनऊ जा रहा बंथरा के लतीफ नगर गांव निवासी प्रदीप कुमार धीमान (23) उक्त मेमू ट्रेन की चपेट में आ गया। जिससे उसकी मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। इस घटना से स्टेशन पर मौजूद सभी यात्री भडक़ गए और स्टेशन कर्मचारियों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए स्टेशन पर तोडफ़ोड़ करने लगे। गुस्साए यात्रियों ने स्टेशन मास्टर कार्यालय की सभी कुर्सी -मेजें तोडऩे के साथ ही स्टेशन मास्टर रूप नारायण मीणा की जमकर पिटाई कर दी। यात्रियों द्वारा स्टेशन पर जमकर बवाल होते देख स्टेशन के सभी रेलवे कर्मियों के अलावा स्टेशन पर खड़ी मेमू ट्रेन का चालक और गार्ड भी दहशत में आ गए और स्टेशन कर्मी स्टेशन के कमरों में ताला बन्द कर वहां से भाग खड़े हुए। बाद में किसी ने घटना की सूचना अधिकारियों को दी। सूचना के बाद भारी पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे अधिकारियों ने किसी तरह उन्हें समझा-बुझाकर शांत किया। फिलहाल सुरक्षा के मद्देनजर हरौनी स्टेशन पर पीएसी तैनात कर दी गई है।
मुआवजे की मांग को लेकर रोकी ट्रेन
गुस्साए सैकड़ों यात्री मुआवजे की मांग को लेकर रेलवे पटरी पर खड़े हो गए और ट्रेनों का संचालन ठप कर दिया। यही नहीं यात्रियों ने स्टेशन के पास मौजूद बनी- मोहान रोड़ जाम कर दी। हालंाकि सूचना के बाद पीएसी, बंथरा, सरोजनीनगर, कृष्णा नगर, काकोरी व मानक नगर थानों की फोर्स के साथ पहुंचे सरोजनीनगर एसडीएम शैलेंद्र कुमार सिंह और सीओ कृष्णा नगर लाल प्रताप सिंह ने उन्हें काफी समझाने की कोशिश की। लेकिन यात्री मौके पर डीआरएम को बुलाने की मांग पर अड़ गए। बाद में पहुंचे उत्तर रेलवे के डीआरएम कासिम एमएन अहमद ने मृतक परिवार को मुआवजा देने के साथ ही दोषी अधिकारी/कर्मचारियों पर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया।

मृतक के परिजनों का आरोप है कि रेलवे ने गलत सिग्नल की जानकारी दी। इस कारण से उसकी घटना हुई है। इस मामले की जांच के आदेश दिए गये हैं जो भी दोषी होगा कार्रवाई की जायेगी
कासिम एमएन अहमद एडीआरएम उत्तर रेलवे

यात्रियों ने स्टेशन पर तोडफ़ोड़ की जिसके बाद पुलिस ने किसी तरह से स्थिति पर काबू पाया। मृतक के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया, घटना की जांच रेलवे करेगा। आगे अगर परिजन कोई शिकायत दर्र्ज करवाते हैं तो कार्रवाई की जायेगी।
उमेश प्रताप जीआरपी थाना प्रभारी चारबाग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × two =