पीएचडी का छात्र आंतकी संगठन में शामिल, पुष्टि होने पर एएमयू ने निकाला

नई दिल्ली डेस्क न्यूज। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) का पीएचडी छात्र मन्नान बशीर वानी के आतंकी संगठन में शामिल होने की पुष्टि के बाद एएमयू ने उसे निकाल दिया है। हालांकि अभी इस बारे में उसके आंतकी संगठन में शामिल होने की पुष्टि एक फोटो के सहारे ही की जा रही है। फोटो में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि
हाथ में एके-47 रायफल वह लिए हुए है। पहले ये फोटो सोशल मीडिया में वायरल हुआ था। जिसके बाद एएमयू प्रशासन ने इसे देखा पहले तो किसी को यकीन नहीं हुआ लेकिन बाद में फोटो के आधार पर फिलहाल उसे यूनिवर्सिटी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। जबकि जम्मू-कश्मीर पुलिस ने उसकी तलाश तेज कर दी है।
यूपी पुलिस नेे एएमयू हॉस्टल में की छापेमारी, एटीएस भी जांच में जुटी
हालांकि बशीर बानी की फोटो वायरल होने के बाद उप्र पुलिस ने एएमयू के हॉस्टल में छापेमारी की। मन्नान बशीर वानी उर्फ साहिल पूरा सच जानने के लिए एटीएस जांच में जुट गई है। एडीजी कानून-व्यवस्था आनन्द कुमार ने बताया कि वायरल फोटो मन्नान की ही होने की पुष्टि हुई है। मन्नान का रूम पार्टनर कश्मीर निवासी मुजम्मिल करीब ढाई माह से यूनिवर्सिटी में नहीं दिखा है। उसकी भी तलाश कराई जा रही है।
एएमयू प्रॉक्टर ने बानी के निकाले जाने की दी जानकारी
प्रॉक्टर प्रो. एम मोहसिन खान ने कहा कि मन्नान के एएमयू व इससे संबद्ध सभी संस्थाओं में प्रवेश पर पाबंदी लगा दी गई है। उन्होंने कहा कि राष्ट्र की सुरक्षा व सम्मान सवरेपरि है।

एलओसी से सटे कुपवाड़ा का रहने वाला है बशीर बानी
उत्तरी कश्मीर में एलओसी के साथ सटे जिला कुपवाड़ा में टकीपोरा गांव के रहने वाले मन्नान बशीर वानी ने 2०12 में एएमयू में एमएससी (एप्लाइड जियोलॉजी) में दाखिला लिया था। एमफिल करने के बाद यहीं से जियोलॉजी में पीएचडी कर रहा था। 26 साल का मन्नान दो जनवरी तक कैंपस में ही था। इस बीच हाथों में असाल्ट राइफल लिए एक फोटो बीते तीन दिनों से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। फोटो में उसके नाम और योग्यता व घर के पते के साथ ही आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन द्बारा दिया गया उसका कोड नाम हमजा भाई भी लिखा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × 4 =