NIA ने दाखिल की चार्जशीट, जाकिर नाईक पर आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप

गुरुवार को स्पेशल कोर्ट में दाखिल हुई चार्जशीट
65 पन्नों की चार्जशीट के साथ एक हजार पन्नों के दस्तावेज भी किए पेश

लखनऊ। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने डा. जाकिर नाईक के खिलाफ स्पेशल कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दिया है। गुरुवार को दाखिल की गयी चार्जशीट में जाकिर नाईक पर आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप है। विवादित इस्लाम उपदेशक डॉ जाकिर नाईक के खिलाफ चार्जशीट में एनआईए ने जाकिर पर युवाओं को अपने भड़काऊ भाषण के जरिए उकसाने और भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाया है।
एनआईए की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक चार्जशीट के साथ ही 1००० पन्नों के दस्तावेज भी कोर्ट में पेश किया गया है। एनआईए ने मुंबई की विशेष अदालत में 65 पन्नों की चार्जशीट दायर की है जिसमें जाकिर नाईकघृणास्पद बयानबाजी और आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाया गया है। इन दस्तावेजों में 8० गवाहों के बयान दर्ज हैं। एनआईए ने जाकिर के भाषणों की सीडी, डीवीडी, टीवी कार्यक्रम, सोशल साइट और ब्लॉग पर उसके लेख आदि का भी आरोप पत्र में जिक्र किया है। फिलहाल देश से बाहर है जाकिर नाईक जाकिर नाईक के खिलाफ एनआईए ने चार्जशीट भले ही दाखिल कर दी है। लेकिन जाकिर नाईक देश से बाहर हैं। जब सुरक्षा एजेंसियों ने शिकंजा कसा तब से वह भारत आने से डर रहा है। बीते साल एक जुलाई को बांग्लादेश की राजधानी ढाका के एक होटल में हुए बम धमाके के बाद जाकिर नाईक का आतंकी कनेक्शन सामने आया था। इस धमाके में दो पुलिस अधिकारी सहित 29 लोगों की मौत हो गई थी। हालांकि सभी पांचों हमलावर आतंकियों को मार गिराया गया था।

विदेशी चंदे से कराता था धर्मांतरण
जाकिर नाईक की संस्था आईआरएफ को विदेशों से बड़े पैमाने पर चंदे मिलते थे, जिसका इस्तेमाल वह धर्मांतरणा और आतंकवाद के लिए करता था। मुंबई से चार छात्रों के आईएस में शामिल होने के बाद यह बात सामने आई थी कि चारो युवक जाकिर नाईक को मानते थे जाकिर एक स्कूल भी चलाता था, जिसमें लेक्चर ट्रेनिग, हाफिज बनने की क्लास और इस्लाम से संबंधित कार्यक्रम होते थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nine + 8 =