कृषि निदेशालय के लापरवाह कर्मचारियों की मंत्री ने देखी करतूत, निरीक्षण में गायब मिले 13० कर्मचारी

लखनऊ। एक ओर सरकार कृषि को बढ़ावा देने और किसानो के राहत देने के लिए कई कार्य कर रही है। वहीं कृषि निदेशालय के कर्मचारी और अधिकारी सरकार की मंशा पर पानी फेरने में जुटे हुए हैं। कर्मचारियों की ऐसी हरकत देखकर मंगलवार को कृषि मंत्री हैरान रहे गये। कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने मंगलवार को सुबह 1० बजे कृषि निदेशालय का औचक निरीक्षण किया तो उसमें पता चला पूरे के पूरे 13० कर्मचारी गायब हैं। ऐसे में सवाल यह है कि जब राजधानी में ये हाल है तो प्रदेश के अन्य जिलों में किसानों के हित में कर्मचारी अधिकारी किस तरह से काम कर रहे होंगे।

कृषि निदेशालय में तैनात हैं 697 कर्मचारी
वैसे तो कृषि निदेशालय में कुल 697 कर्मचारी तैनात हैं। सरकार इसी निदेशालय के दम पर पूरे प्रदेश के किसानों को राहत देने के तमाम वायदे करती है। ऐसे में एक दिन में ही 13० कर्मचारियों का गायब हो जाना निदेशालय की लापरवाही की पोल खोलने के लिए काफी है। वह भी तब जब सीधे मंत्री ने ही ऐसे लापरवाह कर्मचारियों की हरकत देखी हो।

निरीक्षण के दौरान निदेशालय का बंद कराया गया गेट
दरअसल मंत्री जी बिना किसी सूचना के ही कृषि निदेशालय का सच देखने के लिए पहुंच गये थ्ो। 1० बजे जैसे ही मंत्री जी अंदर एंट्री किए वैसे ही गेट बंद करवा दिया गया। इस दौरान राज्य मंत्री कृषि रणवेन्द्र प्रताप सिह व विशेष सचिव डा. ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी के साथ पूरे निदेशालय में जाकर कर्मचारियों की उपस्थिति की जांच की। जांच में पाया गया कि पूरे के पूरे 13० कर्मचारी गायब हैं।

मंत्री सख्त,कार्रवाई के निर्देश
कर्मचारियों की लापरवाही को देखते हुए कृषि मंत्री नाराज हो गये। इसके लिए जिम्मेदार अधिकारियों को दोषी कर्मचारियों पर कार्रवाई के लिए निर्देश दिए। कृषि मंत्री ने कहा कि कर्मचारियों की उपस्थिति शतप्रतिशत सुनिश्चित की जाय। उन्होंने कहा कि अनुपस्थित व विलम्ब से आने वाले कर्मचारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × 4 =