कासगंज में पटरी पर लौटी जिंदगी, शांति व्यवस्था कायम, प्रशासन एलर्ट

लखनऊ। पूरे 6 दिनों बाद कासगंज में सीएम योगी की सख्ती के बाद कासगंज में जिंदगी पटरी पर लौटी है साथ ही प्रशासन शांति व्यवस्था भी बनाये रखने में सफल हुआ है। बजारों में रौनक बढ़ी है तो चंदन गुप्ता हत्याकांड के आरोपी सलीम को गिरफ़्तार कर लिया गया है। वहीं मृतक चंदन की माँ चंदन को शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग पर अड़ी हुई हैं। आगे किसी भी तरह का बवाल न हो इसके लिए प्रशासन भी एलर्ट है। वहीं सीएम योगी भी जिल्ो की हर गतिविधि की लगातार रिपोर्ट ले रहे हैं। उन्होंने अधिकारियों को हिदायता देते हुए कहा कि किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। सीएम ने कहा कि दंगाईयों बलवाईयों से सख्ती से निपटा जायेगा। शांति व्यवस्था के लिए सड़कों पर पुलिस की गश्त के बीच चहल-पहल लोगों की देखी जा सकती है। हालांकि दंगे के बाद से लोगों को अफसोस है साथ ही उदासी भी देखने को मिल रही है। हालांकि कुछ बाजार दो दिन पहले से ही खुल गये हैं। स्कूल कॉलेज भी खुलने शुरू हो गये हैं।

कासगंज में ऐसे हुई पूरी घटना
पुलिस के मुताबिक, 26 जनवरी की सुबह कस्बा कासगंज में अज्ञात लोग मोटरसाइकलों से ‘वंदे मातरम’ और ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाते हुए हाथों में तिरंगा झंडा लेकर भ्रमण कर रहे थे। जुलूस दूसरे समुदाय के लोगों के इलाके में पहुंचा तो कुछ उपद्रवी तत्वों ने पथराव और फायरिग शुरू कर दी, जिससे दोनों पक्षों में विवाद बढ़ गया। इसी बीच फायरिग के दौरान दो युवक अभिषेक गुप्ता उर्फ चंदन और नौशाद गोली लगने से घायल हो गए। घायल चंदन को सरकारी अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई। इसके बाद हिसा भड़क उठी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 × four =