हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी योगी सरकार प्रभावित जिलो में लॉकडाउन क्यों नहीं लगा रही, जानिए वजह

यूपी में जहां तेजी से कोरोना संक्रमण बढ रहा है वहीं दूसरी ओर मौत का आकड़ा भी बढ़ रहा हे। इसी बीच हाईकोर्ट ने पांच जिलों के लिए लॉकडाउन का फरमान सुना दिया, कोर्ट के आदेश के बाद ही कुछ ही देर में सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी अपना बयान जारी करते हुए स्पष्ट कर दिया कि अभी लॉकडाउन की आवश्यकता नहीं है, हम स्थिति​ से निपटने में सक्षम हैं और लोगों की जीविका से खिलवाड नहीं कर सकते हैं।

एक जनहित याचिका पर हाईकोर्ट ने दिया निर्देश
उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर इलाहाबाद हाई कोर्ट के एक जनहित याचिका पर प्रदेश के पांच जिलों में 26 अप्रैल तक हाईकोर्ट ने अपना​ निर्णय देते हुए लॉकडाउन का फैसला सुना दिया, कोर्ट ने मुख्य सचिव को निर्देश देते हुए कहा कि लखनऊ, प्रयागराज, कानपुर शहर, वाराणसी व गोरखपुर में आज रात 12 बजे यानी सोमवार रात से 26 अप्रैल तक लॉकडाउन करें।

हाईकोर्ट ने इस वजह से दिया आदेश
बता दें कि हाईकोर्ट ने जो आदेश दिया उसके पीछे मुख्य वजह थी कि जो सबसे प्रभावित जिले हैं वहां अगर लॉकडाउन लगा एक सप्ताह के लिए लगा दिया जायेगा तो कोरोना संक्रमण चेन तोड़ने मे आसानी हो जायेगी। कोर्ट में जनहित याचिकाकर्ता का तर्क था कि मौजूदा समय में संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं और लोगों की जाने जा रही है, ऐसे में लॉकडाउन दिया जाये।

योगी सरकार इसलिए मंजूर नहीं

कोर्ट का यह निर्देश तो फिलहाल योगी आदित्यनाथ सरकार नहीं मान रही है। सरकार ने लखनऊ सहित पांच शहरों में लॉकडाउन नहीं लगाने का फैसला किया है। कोर्ट के निर्देश के बाद उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ के प्रवक्ता का कहना है कि हमको को कोरोना वायरस संक्रमण के इस काल में गरीबों की जान के साथ उनकी आजीविका भी बचानी है। इस कारण हम लॉकडाउन नहीं लगा सकते हैं।

कोर्ट के आदेश पर सरकार का जवाब
कोर्ट के इस आदेश पर सरकार की तरफ से कहा गया है कि प्रदेश में कोरोना के मामले बढ़े हैं और सख्ती कोरोना के नियंत्रण के लिए आवश्यक है। सरकार ने कई कदम उठाए हैं और आगे भी सख्त कदम उठाए जा रहे हैं। अब जीवन बचाने के साथ गरीबों की आजीविका भी बचानी है। ऐसे में पांच शहरों में सम्पूर्ण लॉकडाउन अभी नहीं लगेगा। प्रदेश में तो लोग स्वत: कई जगह बंदी कर रहे हैं। यह जानकारी अपर मुख्य सचिव सूचना, नवनीत सहगल की तरफ से दी गई है।

अगर कोर्ट का आदेश लागू होता तो …..
कोर्ट की तरफ से दिया गया यह आदेश आज रात से लागू होना था। इस दौरान इन शहरों में जरूरी सेवाओं वाली दुकानों को छोड़कर कोई भी दुकान, होटल, ऑफिस और सार्वजनिक स्थल नहीं खुलने की बात कही गई थी। इसके साथ ही मंदिरों में पूजा और आयोजनों पर भी रोक लगाने का आदेश दिया गया था।