उत्तर प्रदेश में फर्जी शिक्षकों की भरमार, बोर्ड ने दिए जांच के आदेश

-एलटीग्रेट शिक्षकों की भर्ती में भी हुआ फर्जीवाड़ा
-फैजाबाद से लेकर सीतापुर, लखनऊ समेत तमाम जिलों में तैनात हैं फर्जी शिक्षक
लखनऊ। बेसिक शिक्षकों की तरह से माध्यमिक शिक्षकों की तैनाती में भी पूरे प्रदेश में फर्जीवाड़ा हुआ है। इसके लिए माध्यमिक शिक्षा विभाग का लचर सिस्टम और ऊपर बैठे जिम्मेदार अधिकारियों को अगर दोषी कहा जाये तो कुछ भी गलत नहीं होगा। फर्जी शिक्षकों के लेकर मीडिया में तमाम खबरे आने के बाद भी जिम्मेदार अधिकारी कुंडली मारकर बैठे रहे हैं। यही कारण है जहां शिक्षा व्यवस्था का बंटाधार हो रहा है वहीं बड़े स्तर पर सरकारी राजस्व की भी हानि हो रही है। जब शिक्षकों की तैनाती हो गयी वेतन मिलने लगा उसके बाद अब माध्यमिक शिक्षा चयन बोर्ड की नींद टूटी है। ऐसे में चयन बोर्ड की ओर से प्रदेश के 18 मंडलों में आने वाले सभी जिलों के जिला विद्यालय निरीक्षकों को पत्र जारी कर दिया गया है। बोर्ड की ओर से जारी पत्र के मुताबिक चयनित शिक्षकों के कार्यभार ग्रहण करने की सूचना से लेकर उनके अभिलेखों की पुन: सत्यापन के निर्देश दिए गये हैं। साथ ही जिलों के जिला विद्यालय निरीक्षकों को 21 से 24 नवंबर के बीच चयन बोर्ड में उपस्थित होना होगा।

2०11 से अब तक एलटीग्रेट में भी फर्जीवाड़ा

एलटीगेट शिक्षकों की नियुक्ति में बड़े स्तर पर फर्जीवाड़ा हुआ है। इसमें में 2०11 स्ो लेकर अभी तक जो भी नियुक्ति हुई हैं उसमें जांच हुई तो पता चलेगा कि तमाम ऐसे शिक्षक हैं जिनकी डिग्रियां फर्जी हैं। लेकिन इसमें सत्यापन में ऐसा ख्ोल हुआ कि माध्यमिक शिक्षा विभाग के अधिकारी भी कुछ नही पकड़ पाये। और जहां मामले पकड़े भी गये वहां पर मोटी डील हो गयी। ऐसी स्थिति में शिक्षक फर्जी डिग्री पर नौकरी कर मौज काट रहे हैं।

2०13 में हुआ फर्जीवाड़ा

माध्यमिक शिक्षक चयन बोर्ड से वर्ष 2०13 के विज्ञापन के तहत 4799 प्रशिक्षित स्नातक और 875 प्रवक्ताओं का चयन हुआ था। इन शिक्षकों की 18 मंडलो के जिलो में तैनाती मिली थी। जिसमें कुछ जिलों से यह शिकायत आई कि पैनल में चयनित शिक्षकों के स्थान पर फर्जीवाड़ा करके किसी अन्य की तैनाती करा दी गई। यहां तक कई शिक्षकों के अभिलेख भी फर्जी हैं।

माध्यमिक शिक्षा चयन बोर्ड ने इन जिलों का लिया संज्ञान

सहारनपुर, बस्ती, संतकबीर नगर, सिद्धार्थनगर, गोंडा, बहराइच, श्रावस्ती, बलरामपुर, संतरविदासनगर, सोनभद्र, चित्रकूट, बांदा, हमीरपुर, मेरठ, बुलंदशहर, गाजियाबाद/हापुड़, बागपत, गौतमबुद्धनगर, लखनऊ, सीतापुर, रायबरेली, लखीमपुर-खीरी, हरदोई, आगरा, मथुरा, अलीगढ़ महामायानगर/हाथरस, इलाहाबाद, प्रतापगढ़, कानपुर देहात, कन्नौज, देवरिया, महाराजगंज, झांसी, ललितपुर, रामपुर, बिजनौर, अमरोहा/जेपी नगर, बदायूं, वाराणसी, फैजाबाद, अंबेडकरनगर, आजमगढ़, बलिया, मऊ।

तमाम जिलों से शिक्षकों के फर्जी नियुक्ति होने की शिकायतें मिलने के बाद इस विषय में सभी जिलों के डीआईओएस को ओदश जारी कर दिया गया है कि चयनित शिक्षकों के अभिलेखों का सत्यापन कराया जाये।
नीना श्रीवास्तव सचिव माध्यमिक शिक्षा चयन बोर्ड

चयन बोर्ड ने शिकायत को गंभीरता से लेते हुए सभी डीआईओएस को आदेश जारी कर दिया है। साथ ही सभी डीआईओएस को 21 से 24 नवंबर तक तलब भी किया गया है।

नवल किशोर उप सचिव माध्यमिक शिक्षा चयन बोर्ड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen − nine =