भारतीय सेना ने पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर उतारा विमान सी-130 हरक्यूलिस, सुल्तानपुर के निकट बने 3.3 किलोमीटर के दायरे में सोमवार को भी गरजेंगे विमान

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आगमन से पहले ही सुल्तानपुर जिले के पास आपातकालीन लैंडिग के लिए विकसित की गयी 3.3 किलोमीटर के दायरे में भारतीय सेना ने रविवार को विमान सी-130 हरक्यूलिस उतार दिया। इस दृश्य को देखकर लोग रोमांचित हो उठे। इससे पहले यूपी में आगरा एक्सप्रेसवे पर विमानों को सेना ने उतारा था। सुल्तानपुर के निकट पूर्वांचल एक्सप्रेस व
3.3 किलोमीटर के दायरे सेना अब किसी भी समय इमरजेंसी लैडिंग कर दुश्मन को कड़ी टक्कर दे सकती है।
सेना इस पर IAF के मिराज 2000 और Su-30MKI विमान आपातकालीन हवाई पट्टी पर कई टेकऑफ़ और लैंडिंग कर सकेंगे। सुल्तानपुर जिले के कुरेभर गांव के पास बने रनवे पर उतरेंगे, तो कुछ टच-एंड-गो ऑपरेशन में हिस्सा लेंगे। भारतीय वायुसेना द्वारा शुक्रवार को भी एक पूर्वाभ्यास किया गया जहां वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। एक्सप्रेसवे देश भर में लड़ाकू विमानों के लिए आपातकालीन लैंडिंग सुविधाएं विकसित करने की सरकार की योजना का हिस्सा है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे उद्घाटन
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 16 नवंबर को सुलतानपुर में देश के सबसे लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का लोकार्पण करेंगे। 340.824 किमी लंबे हाइवे के लोकार्पण के साथ पूर्वांचल की तरक्की का सफर शुरू हो जाएगा। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे एयर स्ट्रिप भी बनाई गई है। एक्सप्रेस-वे के लोकार्पण के दौरान वायुसेना के युद्धक विमान इस एयर स्ट्रिप पर उतरेंगे। इंडियन एयरफोर्स के विमानों का वहां एयरशो होगा। फाइटर एयरक्राफ्ट सुखोई, जगुआर और मिराज फ्लाईपास्ट करेंगे। पिछले शुक्रवार से इसका पूर्वाभ्यास भी चल रहा है। इसी क्रम में रविवार को भारतीय वायु सेना का विमान सी-130 हरक्यूलिस लैंड कराया गया।

ये विमान भी करेंगे प्रदर्शन
—सुखोई एसयू 30 एमकेआई
—मिराज 2000 विमान
— जगुआर
— सूर्यकिरण
— सी-130,
— एएन-32

चार साल पहले आगरा एक्सप्रेस वे पर उतरे थे विमान
इससे पूर्व आगरा एक्सप्रेस-वे पर बनी एयर स्ट्रिप पर 15 से अधिक विमान चार वर्ष पहले करतब दिखा चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 16 नवंबर को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के लोकार्पण के दौरान अरवलकीरी करवत में करीब दो घंटे रहेंगे। जिलाधिकारी रवीश गुप्ता ने बताया कि अधिकृत कार्यक्रम आने के बाद ही मिनट्स स्पष्ट हो पाएंगे। फिलहाल वह दो बजे के आसपास यहां पहुंचेंगे। एक घंटा 15 मिनट का जन संबोधन होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eight − six =