लखनऊ में कोविड ड्यूटी के नाम पर आराम फरमा रहे गुरुजी, एडी बेसिक सख्त, कटेगा वेतन, निलंबन की तैयारी

राजधानी में बेसिक शिक्षा परिषद की ओर से संचालित प्राथमिक और जूनियर विद्यालयो में तैनात जिन शिक्षकों को कोविड-19 ड्यूटी के लिए लगाया गया था और वह ड्यूटी की बजाय घर पर ही आराम फरमाते रहे। इस बात से नाराज मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक (एडी) पीएन सिंह ने 17 विद्यालयों के शिक्षकों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। ऐसे में तीन दिनों के अंदर शिक्षकों को अपना जवाब देना होगा। इस संबंध में एडी बेसिक ने बताया कि कोरोना ड्यूटी के लिए गये शिक्षक अपनी ड्यूटी पर सक्रिय नहीं दिखे, ऐसे में इन शिक्षकों को नोटिस जारी कर तीन दिनों में जवाब देने के लिए कहा गया है। साथ ही शिक्षकों के लिए जो ड्यूटी निर्धारित की गयी उसे करना होगा। ड्यूटी पर न जाने वाले शिक्षकों के निलंबन की कार्रवाई शुरू की जायेगी साथ ही वेतन कटौती भी की जायेगी। बता दें कि इस बार कोरोना संक्रमण के दूसरे चरण में भी शिक्षकों को कोविड ड्यूटी के लिए 8 अप्रैल से लगाया गया है, लेकिन पिछले पांच दिनों से 17 विद्यालयों के शिक्षक अपनी ड्यूटी नहीं कर रहे थे, जिसके बाद एडीबेसिक ने नोटिस जारी किया है। इन शिक्षकों को कोविड ड्यूटी के दौरान कोरोना संबंधित अलग सूचनाओं को एकत्रित करना है

इन शिक्षकों पर होगी कार्रवाई

प्रमेन्द्र त्रिपाठी प्राथमिक विद्यालय नंद पुर
अरविंद सिंह प्राथमिक विद्यालय हमीर माल
नोमान अहम प्राथमिक विद्यालय माल प्रथम
शैलेन्द्र कुमार प्राथमिक विद्यालय रायपुर माल
नसीर अली अंसारी प्राथमिक विद्यालय भाईदास खेड़ा
संतोष कुमार सिंह प्राथमिक विद्यालय छेदा का पुरवा
कालिका प्रसाद प्राथमिक विद्यालय भदोई सरोजनी नगर
श्रीनाथ मौर्या प्राथमिक विद्यालय घुसवल कला
विजय शंकर श्रीवास्तव प्राथमिक विद्यालय स्कूटर इंडिया
पंकज मिश्रा प्राथमिक विद्यालय धनेहर खेड़ा
नरेन्द्र कुमार प्राथमिक विद्यालय पारा नगर क्षेत्र 4
अभय प्रकाश प्राथमिक विद्यालय फरीदीपुर
दिनकर दुबे प्राथमिक विद्यालय तोप दरवाजा
शैल श्रीवास्तव प्राथमिक विद्यालय गऊघाट
अली मजहर प्राथमिक विद्यालय टिकनियामऊ
तेजेन्द्र बहादुर सिंह प्राथमिक विद्यालय कहला मलिहाबाद

कोविड-ड्यूटी के लिए लगाये गये 17 शिक्षक अपनी ड्यूटी से अनुपस्थित पाये गये हैं, इस संबंध में सभी शिक्षकों नोटिस जारी कर तीन दिनों में स्पष्टीकरण मांगा गया है, लापरवाह शिक्षकों का वेतन काटा जायेगा, निलंबित भी किया जा सकता है।
पीएन सिंह एडीबेसिक लखनऊ मंडल

नीचें देखें जारी हुआ नोटिस