बैकफुट पर सरकार: पीपीएफ में ब्याज दरों को घटाने का फैसला लिया वापस, वित्त मंत्री ने ट्वीटर पर दी जानकारी

file fhoto

 केन्द्र सरकार ने स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स (Small Saving Schemes) पर ब्याज दरों में कटौती का फैसला वापास ले लिया है। इस बात की जानकारी खुद वित्त मंत्री निर्मला सीता रमण ने ट्वीट कर दी है। उन्होंने बताया कि वित्त मंत्रालय की ओर से NSC और PPF सहित छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरों में कटौती नहीं की जायेगी। ट्वीट में उन्होंने लिखा कि छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरें पहले की तरह बनी रहेंगी जो 2020-2021 की अंतिम तिमाही में थीं। कल शाम जो आदेश जारी किया गया था उसे वापस लिया जा रहा है
बुधवार को ब्याज दरों में कटौती की हुई थी घोषणा
बता दें कि सरकार ने बुधवार को पीपीएफ (PPF) और अन्य स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स पर ब्याज दरों में मार्च से जून 2021 तिमाही के लिए कटौती की घोषणा की थी। सरकार ने पीपीएफ पर ब्याज दर को आगामी वित्त वर्ष की पहली तिमाही के लिए 7.1 फीसद से घटाकर 6.4 फीसद, नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट्स (NSC) पर ब्याज दर को 6.8 फीसद से घटाकर 5.9 फीसद, सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम (SCSS) पर ब्याज दर को 7.4 फीसद से घटाकर 6.5 फीसद करने की घोषणा की थी।, लेकिन कुछ ही घंटों बाद इसे फैसले को वापस ले लिया गया है। सरकार द्वारा कल 7 फीसद से कम पीपीएफ ब्याज दर 1974 के बाद से पहली बार 46 वर्ष में सबसे कम रही थी।

कल बालिकाओं के लिए बचत योजना सुकन्या समृद्धि योजना खाते पर ब्याज 2021-22 की पहली तिमाही के लिये 0.7 फीसद घटाकर 6.9 फीसद कर दिया गया था। किसान विकास पत्र पर सालाना ब्याज दर 0.7 फीसद कम कर 6.2 फीसद कर दी गयी थी। लेकिन, अब सभी दरें पहले की तरह मौजूद हैं।

स्मॉल सेविंग स्कीम्स पर ब्याज दरें प्रत्येक तिमाही के लिए तय होती हैं। सरकार इन दरों को तय करती है। अप्रैल 2020 में दरों में बड़ी कटौती के बाद स्मॉल सेविंग स्कीम्स पर ब्याज दरों को पूरे वित्त वर्ष 2020-21 में अपरिवर्तित रखा गया था।