लखनऊ महानगर में डायग्नोस्टिक सेंटर की लापरवाही से महिला की मौत, परिजनों ने किया हंगमा

लखनऊ। महानगर कोतवाली क्ष्ोत्र में एक निजी डायग्नोस्टिक सेंटर की लापरवाही से महिला की जान चली गयी। महिला बच्चेदानी की जांच कराने गई थी। बताया जा रहा है कि महिला को पहले इंजेक्शन लगाया गया उसके कुछ ही समय बाद महिला की जान चली गयी। उसके बाद सेंटर के कर्मचारियों ने घटना को दबाये रखा। वहीं सेंटर के कर्मचारियों ने फिर उसे महानगर स्थित बीआरडी अस्पताल में भर्ती करवा दिया। परिजनों का आरोप है कि डायग्नोस्टिक सेंटर में ही जान चली गयी थी। उसके बाद बीआरडी अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां चिकित्सकों ने महिला को मृत बताया। नाराज परिजनों का आरोप है कि डायग्नोस्टिक सेंटर से पुलिस भी मिली हुई है। अलीगंज पुरनिया के रहने वाले ठेकेदार वीरेंद्र की पत्नी किरन (35) का इलाज पुरनिया आरिफ चेंबर स्थित एक डॉक्टर की क्लीनिक से चल रहा था। महिला ने शनिवार को डॉक्टर को दिखाया तो बच्चेदानी की जांच लिख दी। तीमारदार उसे लेकर दोपहर करीब दो बजे महानगर स्थित एक डायग्नोस्टिक सेंटर ले गए। जांच से पहले चिकित्सकों ने महिला को इंजेक्शन लगाया। कुछ ही देर बाद महिला बेहोश हो गई। जांच के बाद उसे बाहर निकाला गया।चिकित्सकों ने जल्द ही होश में आने की बात कही। शाम करीब चार बजे तक होश न आने पर डायग्नोस्टिक सेंटर के चिकित्सकों ने महिला का परीक्षण किया। आनन-फानन में उसे उठाकर बीआरडी अस्पताल ले गए और वहीं छोड़ आए। बीआरडी अस्पताल के चिकित्सकों ने महिला को मृत घोषित कर दिया। नाराज परिवारीजनों ने डायग्नोस्टिक सेंटर पर गलत इंजेक्शन लगाने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। सूचना पर पुलिस भी पहुंची। तीमारदारों ने पुलिस पर मिलीभगत का आरोप लगाते हुए नारेबाजी की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × two =