लखनऊ में अपना खौफनाक रूप दिखा रहा कोरोना, शनिवार को मिले सबसे अधिक केस, 6 लोगों की हुई मौत, स्वास्थ्य केन्द्र के अधीक्षक भी संक्रमित

राजधानी में जहां दो दिनों तक 900 का आकड़ा पार किया। वहीं शनिवार को एक हजार से ज्यादा आकड़ा पार हो गया है। यहां पर शाम पांच बजे तक 1041 मरीज सामने आए। वहीं छह लोगों की मौत हो गई। इसके अलावा 213 लोगों को शनिवार को डिस्चार्ज किया गया। अभी तक कुल 82 हजार से ज्यादा लोगों को डिस्चार्ज कर दिया गया है। वर्तमान में 5400 केस सक्रिय हैं। बीते एक साल में अभी तक 1228 लोगों की मौत हो चुकी है।

शनिवार को कोविड टीकाकरण होने के बावजूद भी सीएचसी अधीक्षक कोरोना पाॅजीटिव पाये गये हैं। जिसके बाद नगर पंचायत ने अस्पताल को सैनेटाइज करने के साथ अधीक्षक को 14 दिनों के लिये होम आइसोलेट कर दिया गया है।

बता दें कि शहरों के साथ ही गांवों में भी धीरे—धीरे कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्र मे पूर्व मे 3 मरीज कोरोना पाॅजीटिव पाये गये थे। जिन्हें प्रशासन ने होम क्वारंटीन कर दिया है। इसके बाद शुक्रवार को ग्राम कसमण्डीखुर्द निवासी युवक कोरोना पाॅजीटिव पाया गया। जिसके बाद उसे 14 दिनों के लिये होम क्वारंटीन कर दिया गया है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के अधीक्षक डा. अवधेश कुमार भी शनिवार को कोरोना पाॅजीटिव पाये गये। जबकि पूर्व में इन्हें कोरोना वैक्सीन का टीका भी लग चुका है। टीका लने के बावजूद भी यह कोरोना पाॅजीटिव पाये गये। जिसके बाद क्षेत्र मे वायरस के प्रति खौफ का माहौल है। जिसके बाद उन्हें होम आइसोलेट कर दिया गया है। सीएचसी अधीक्षक कोरोना पाॅजीटिव पाये जाने के बाद नगर पंचायत के अधिशाषी अधिकारी प्रेमनारायण ने अस्पताल को सैनेटाइजेशन करवाया। सहायक विकास अधिकारी पंचायत देवेन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि ग्राम कसमण्ड़ीकलां, महमूदनगर, तिलसुवा व घुसौली मे एक-एक मरीज कोरोना पाॅजीटिव पाया गया है। जिसके बाद मोहल्ले को सैनेटाइजेशन कराने के साथ मोहल्ले को कन्टेनमेन्ट जोन बना दिया गया है।