सीएमओ को पांच दिनों में तैनात करने होंगे चिकित्सक, आदेश जारी

-आयुष चिकित्सकों एवं आयुष फार्मासिस्टों की स्वास्थ्य केन्द्रों एवं
अस्पतालों में तैनाती के दिशा-निर्देश जारी
लखनऊ। प्रदेश के सभी सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बिना चिकित्सक के न रहे इसके लिए आयुष चिकित्सकों की तैनाती अगले 5 दिनों में आयुष चिकित्सकों की नियुक्त करनी होगी। यह आदेश शुक्रवार को जिलो के सीएमओ को प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य प्रशांत त्रिवेदी ने दिए। जारी आदेश के मुताबिक मेनस्ट्रीमिग आफ आयुष, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अन्तर्गत कार्यरत संविदा आयुष चिकित्सकों खासतौर से संविदा आयुष पुरूष चिकित्सकों को सबसे पहले ऐसे प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों, जहां कोई भी चिकित्सक कार्यरत नहीं है, वहां तैनात किया जायेगा। जिससे जनपद में कोई प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र चिकित्सक विहीन न रहे। यह भी निर्देश दिए गए हैं कि यदि जनपद में सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर चिकित्सक उपलब्ध हों तो, ऐसी दशा में आवश्यकता के अनुसार आयुष चिकित्सकों की तैनाती सुनिश्चित की जाए। वहीं प्रदेश के प्राथमिक/सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों तथा जिला चिकित्सालायों में जिस विधा का संविदा आयुष चिकित्सक तैनात किया जायेगा, वहां उसी विधा के संविदा आयुष फार्मासिस्ट को तैनात किया जायेगा। साथ ही स्वास्थ्य केन्द्रों एवं अस्पतालों में उसी विधा की आयुष औषधि की उपलब्धता भी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा इस बात पर भी विशेष ध्यान देने को कहा गया है कि स्वास्थ्य इकाईयों पर संविदा आयुष फार्मासिस्टों की तैनाती संविदा आयुष चिकित्सकों के बिना न की जाय।
15 नवंबर तक सीएमओ भ्ोजें शासन को रिपोर्ट
आयुष चिकित्सकों द्बारा निर्धारित एलोपैथिक औषधियों का प्रयोग अपनी विधा की औषधियों के साथ-साथ किया जा सकता है। आयुष चिकित्सकों द्बारा गम्भीर रोगियों की प्रारम्भिक देखभाल/उपचार के बाद मरीज को उच्च चिकित्सा सुविधा वाली इकाईयों पर इलाज के लिए रिफर किया जायेगा। आयुष चिकित्सकों द्बारा मेडिकोलीगल, पोस्टमार्टम एवं आईवी इंजेक्शन के कार्य नहीं किये जायेंगे प्रदेश के सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को आयुष चिकित्सकों की तैनाती आगामी 15 नवम्बर तक कर उसकी सूचना शासन को उपलब्ध कराने के निर्देश भी दिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × 5 =