यूपी में बढ़ते सडक़ हादसों पर सीएम योगी चिंतित, जिम्मेदार अधिकारियों के लिए जारी किया सख्त फरमान

लखनऊ। प्रदेश की राजधानी समेत सभी जनपदों में बढ़ते सडक़ हादसों को सीएम योगी चिंतित हैं। सडक़ सुरक्षा को लेकर शनिवार के सीएम योगी आदित्यनाथ ने पुलिस और परिवहन विभाग के उच्च अधिकारियों के साथ एक बड़ी बैठक की। बैठक में सीएम ने प्रदेश में हो रही सडक़ दुर्घटनाओं को लेकर अधिकारियों से विस्तार से चर्चा की। इस मौके पर सीएम योगी कुछ मामलों में नरम दिखे तो कुछ मामलों में गरम भी दिखे। बैठक में सीएम ने परिवहन अधिकारियों और पुलिस महकमें के अधिकारियों को यातायात से जुड़े सभी नियमों का कड़ाई से पालन कराये जाने के लिए निर्देश दिए। सीएम ने कहा कि हेलमेट और सीट बेल्ट के इस्तेमाल का कड़ाई से अनुपालन कराया जाए। ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन पर ई-चालान की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। छोटे स्कूल वाहन व वैन के लिए तय नियमों का पालन किया जाए। जनसामान्य और खासतौर से स्कूली बच्चों व उनके अभिभावकों को सडक़ सुरक्षा के सम्बन्ध में अभियान चलाकर जागरूक करने के निर्देश दिए हैं। शास्त्री भवन में हुई बैठक में सीएम ने कहा कि सडक़ सुरक्षा के सम्बन्ध में पुलिस, परिवहन, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य तथा शिक्षा विभाग संयुक्त रूप से कार्य योजना बनाकर उसका क्रियान्वयन सुनिश्चित करें। इस अवसर पर प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार, डीजीपी ओपी सिंह, प्रमुख सचिव परिवहन आराधना शुक्ला, मुख्यमंत्री के सचिव मुत्युंजय कुमार नारायण, मुख्यमंत्री के सूचना सलाहकार मुत्युंजय कुमार, प्रमुख सचिव सूचना एवं पर्यटन अवनीश कुमार अवस्थी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।
स्कूलों में बताने होंगे यातायात के नियम
सीएम योगी ने प्रदेश के सभी जनपदों में चल रहे बेसिक और माध्यमिक शिक्षा विभाग के स्कूलों में यातायात नियमों की जानकारी के लिए अभियान चलाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अभियान चलाकर सम्बन्धित वाहनों का शत-प्रतिशत निरीक्षण किया जाए। स्कूलों का दायित्व निर्धारित किया जाए कि मानक के अनुसार ही वाहन चलें। उन्होंने कहा कि सभी मार्गों पर यातायात नियंत्रण सम्बन्धी साइन बोड्र्स को प्राथमिकता पर लगाए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि सडक़ हादसों को लेकर मार्ग दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों को लेकर सरकार अत्यन्त चिन्तित और गंभीर है। इन्हें रोकने के लिए गंभीर प्रयास करने होंगे।
शराब पीकर वाहन चलाते मिले तो सख्ती करें
सीएम योगी ने कहा कि चेकिंग अभियान भी चलाया जाये,इस दौरान जो भी ड्राइवर नशे में ड्राइविंग करता मिल जाये उसके और वाहन मालिक पर भी सख्त कार्रवाई की जाये। सीएम ने माना कि मार्ग दुर्घटनाओं का सबसे बड़ा कारण ड्राइवरों की लापरवाही, ओवर स्पीडिंग और शराब पीकर वाहन चलाना है। इन पर हर हाल में लगाम लगानी होगी। उन्होंने ड्राइवरों के स्वास्थ्य परीक्षण करवाने के भी निर्देश दिए। साथ ही, कहा कि यात्री व स्कूली वाहनों की भी फिटनेस सुनिश्चित हो। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए। उन्होंने कहा कि वाहन चालकों को ट्रैफिक नियमों की जानकारी देते हुए नियमों का पालन सुनिश्चित कराया जाए।
चालकों को करवानी होगी रिफ्रेशर ट्रेनिंग
मुख्यमंत्री ने कहा कि वाहन चालकों की समय-समय पर रिफ्रेशर ट्रेनिंग करवायी जाए। इसके लिए आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। राजमार्गों एवं एक्सप्रेसवे पर आवश्यकतानुसार एम्बुलेंस तथा डायल-100 के वाहनों की व्यवस्था हर हाल में की जाए। एक्सप्रेसवे और राजमार्गों पर तेज गति से चलने वाले वाहनों के कारण इन पर सजग पेट्रोलिंग की आवश्यकता पर बल देते हुए उन्होंने इन पर मौजूद अनावश्यक और अवैध कट्स को बन्द करने के निर्देश दिए।
चिन्हित ब्लैक स्पॉट्स का जल्द हो सुधार
सीएम योगी ने कहा कि प्रदेश के मार्गों पर चिन्ह्ति किए गए ‘ब्लैक स्पॉट्स’ में से सुधारीकरण के अवशेष ‘ब्लैक स्पॉट्स’ का कार्य सभी सडक़ निर्माण सम्बन्धी संस्थाओं द्वारा शीघ्रता से पूर्ण किया जाए। रोड सेफ्टी ऑडिट का कार्य भी शीघ्रता से किया जाए। स्कूल, अस्पताल, भीड़भाड़ वाले स्थानों आदि पर जेब्रा क्रॉसिंग बनाए जाने के साथ ही, फुट ओवरब्रिज भी बनाए जाएं। अस्पताल, स्कूल, ग्राम, बाजार, भीड़ युक्त स्थान आदि पर गति सीमा सम्बन्धी बोर्ड हर हाल में लगाए जाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen + 12 =