सिपाही भर्ती के लिए 2015 के अभ्यर्थियों ने खोला मोर्चा

लखनऊ। बीते 2015 में जारी सिपाहियों की भर्ती पर अब तक कोई फैसला न लिए जाने से नाराज अभ्यर्थियों ने बुधवार को जोरदार प्रदर्शन किया।
लखनऊ में आयोजित प्रदर्शन के दौरान अभ्यर्थियों का कहना है कि उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती व प्रोन्नति बोर्ड द्वारा 29 दिसंबर 2015 को जारी की गई 34,716 सिपाहियों की भर्ती पर अब तक कोई फैसला नही आया है। वहीं नई भर्ती के लिए 2018 का विज्ञापन जारी कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री से मिलने की मांग पर अड़े

प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थियों ने मांग करते हुए कहा जबतक प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तरफ से उन्हें कोई आश्वासन नहीं मिल जाता वो यहां से नहीं हटेंगे।

ये है पूरा मामला

*29 दिसम्बर 2015 को जारी हुआ था विज्ञापन
* पुलिस भर्ती बोर्ड को 34,716 सिपाहियों की करनी थी भर्ती
* विज्ञापन के मुताबिक 28916 पुरुष अभ्यर्थी है।
* महिला पुलिस आरक्षी एवं आरक्षी पीएसी के पदों पर 5800 अभ्यर्थी है।
* भर्ती प्रक्रिया के समय ही इलाहाबाद हाइकोर्ट में याचिका दायर की गई थी।
* जिस पर फैसला लेते हुए कोर्ट ने 27 मई 2016 को भर्ती प्रक्रिया के अंतिम परिणाम पर रोक लगा दी थी।

* अभ्यर्थियों के मुताबिक प्रमुख सचिव गृह ने आश्वासन ‌दिया था कि जबतक तक इन भर्तियों पर कोई फैसला नहीं हो जाता आगे कोई भर्ती विज्ञापन जारी नहीं किया जाएगा,

* भर्ती बोर्ड ने 42 हजार सिपाही भर्ती के लिए 14 जनवरी 2018 को विज्ञापन जारी कर दिया।

* अभ्यर्थियों की मांग है कि पहले 34,716 सिपाहियों की भर्ती पर कोई फैसला लिया जाए। इसके बाद आगे की भर्ती की जाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two − 1 =