बाबा साहेब को दीक्षा देने वाले बौद्ध भिक्षु प्रज्ञानंद का निधन

-केजीएमयू में चल रहा था इलाज, सीने में दर्द के साथ सांस लेने में थी दिक्कत
लखनऊ। भारत के संविधान निर्माता डा. भीमराव अंबेडकर को दीक्षा देने वाले बौद्ध भिक्षु प्रज्ञानंद का गुरुवार को निधन हो गया। लंबी बीमारी से जूझ रहे भिक्षु प्रज्ञानंद ने केजीएमयू में इलाज के दौरान अंतिम सांस सुबह करीब 11 बजे ली। इस बारे में जानकारी देते हुए केजीएमयू के सीएमएस एसएन शंखवार ने बताया कि उन्हें सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत थी। रविवार को उन्हें केजीएमयू लखनऊ में भर्ती कराया गया था। जहां उनका ट्रॉमा सेंटर में इलाज चल रहा था। बाद में उनकों गांधी वार्ड में शिफ्ट किया गया था।

मौत की खबर सुनते ही पहुंचे स्वामी प्रसाद मौर्या
बौद्ध भिक्षु प्रज्ञानंद के निधन की खबर आते ही मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या केजीएमयू देखने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने दुख व्यक्त किया।
पार्थिव शरीर पहुंचा उनके आश्रम
निधन के करीब एक एक घंटे के बाद प्रज्ञानंद का शव उनके आश्रम में भ्ोज दिया गया। उसके बाद वहां पर मौजूद अन्य साथियों ने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया। उनके अंतिम दर्शन के लिए तमाम अन्य बौद्ध भिक्षु भी पहुंचे।
श्रीलंका में जन्में थ्ो प्रज्ञानंद
बौद्ध भिक्षु प्रज्ञानंद का जन्म श्रीलकां में हुआ था। वह 1942 में भारत आ गये थ्ो। और वह रिसालदार पार्क के बुद्ध विहार में रहते थ्ो।
1956 में बाबा साहेब को प्रदान की थी दीक्षा
संविधान निर्माता बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर ने जब हिन्दू धर्म छोड़ा और बौद्ब धर्म को स्वीकार किया तो उन्हें दीक्षा प्रदान की गयी। 14 अक्टूबर 1956 को नागपुर में बाबा साहेब को प्रज्ञानंद ने सात भिक्षुओं के साथ दीक्षा प्रदान की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

six + 19 =