बॉलीवुड के खलनायक फिल्म अभिनेता संजय दत्त का आज 62वां जन्मदिन, जानिए उनके फिल्मी सफर से लेकर निजी जिंदगी के बारे में

बालीवुड की दुनिया में कभी खलनायक तो कभी मुन्नाभाई के नाम से मशहूर हुए एक्टर संजय दत्त आज 62 साल के पूरे हो चुके हैं। आज वह 29 जुलाई को अपना 62वां जन्मदिन मना रहे हैं। मशहूर अभिनेता सुनील दत्त और नरगिस के बेटे संजय दत्त की जिंदगी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। कभी विवादों से पड़े तो कभी अपनी लव लाइफ को लेकर चर्चा में रहे ।

29 जुलाई 1959 को हुआ था जन्म
संजय दत्त के पिता सुनील दत्त को उनकी मां नरगिस उन्हें ‘एलविस प्रेसली’ कहती थीं। अकसर दोनों ‘प्रेसली’ जूनियर के दुनिया में आने के सपने देखते थे। वह दिन 29 जुलाई, 1959 को आया, जब नरगिस ने संजय दत्त को जन्म दिया। हालांकि दिलचस्प बात यह है कि संजय दत्त का नाम सुनील दत्त और नरगिस ने नहीं रखा था। उनका नाम क्राउडसोर्सिंग के जरिए रखा गया था।

ऐसी रह चुकी है लव लाइफ
संजय दत्त की फिल्मों से ज्यादा अकसर उनकी निजी जिंदगी के बारे में चर्चाएं होती रही हैं। आपको याद ही होगा जब संजय दत्त की बायोपिक फिल्म ‘संजू’ रिलीज होने वाली थी तब उन्होंने अपने लाइफ से जुड़े कई सीक्रेट्स से परदा उठाकर सभी को शॉक्ड कर दिया था। अपने खुलासे में संजय ने खुद कहा था कि उनका रिश्ता करीब 308 लड़कियों के साथ रह चुका है।

ऋचा शर्मा से की थी सबसे पहले शादी, ब्रेन ट्यूमर से हुई थी मौत
अपनी पहली पत्नी ऋचा शर्मा को संजय एक झटके में अपना दिल दे बैठे थे, लेकिन ऋचा को पाने के लिए संजू को काफी पापड़ बेलने पड़े। आखिरकार प्यार की जीत हुई और ऋचा ने संजय दत्त से शादी के लिए हामी भर दी और 1987 में ऋचा और संजय शादी के बंधन में बंध भी गए। लेकिन इस शादी में भी किस्मत ने संजय का साथ नहीं दिया। ब्रेन ट्यूमर के चलते ऋचा ने 10 दिसंबर 1996 में दुनिया को अलविदा कह दिया।

मान्यता दत्त हैं संजय दत्त की तीसरी पत्नी
संजय ने 1998 में मॉडल रिया पिल्लई से शादी की। संजय की दूसरी शादी सिर्फ सात साल चली और वह 2005 में रिया से अलग हो गए। वक्त गुजरता गया और 2008 में संजय ने तीसरी शादी की और वो भी बड़े नाटकीय अंदाज में। दो साल तक अपने लव अफेयर को छुपाए संजय दत्त ने मान्यता से मुंबई के एक अपार्टमेन्ट में शादी रचाई।

संजय दत्त की पहली फिल्म थी रेश्मा और शेरा
संजय दत्त ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत बतौर चाइल्ड एक्टर की थी। सबसे पहले वह ‘रेश्मा और शेरा’ में नज़र आए थे। यह फिल्म 1972 में रिलीज़ हुई थी। इसके बाद 1981 में संजय ने रॉकी फिल्म से बतौर एक्टर अपने करियर की शुरुआत की. पहली ही फिल्म ने संजय को रातोंरात स्टार बना दिया।

1993 में इस केस में पहली बार जेल गए संजय दत्त
संजय की जिंदगी में उस वक्त भूचाल आ गया, जब 1993 में मुबंई बम ब्लास्ट में नाम आने के कारण उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. उस समय मॉरिशस में फिल्म आतिश की शूटिंग चल रही थी, लेकिन बम ब्लास्ट में नाम आने के कारण उन्हें मुबंई लौटना पड़ा, जहां एयरपोर्ट पर ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। संजय पर अपने घर पर हथियार रखने का आरोप था। हालांकि, पूछताछ में संजय ने हथियार रखने और अबू सलेम के अपने घर आने की बात कबूली भी थी। इसके बाद संजय पर टाडा कानून के तहत मुकदमा चलाया गया और उन्हें छह साल की जेल हो गई।

2006 में टाडा से मिली मुक्ति
1993 से लेकर 2006 तक संजू को आतंकवादी कहकर बुलाया जाता था. लेकिन साल 2006 में मुंबई बम धमाकों मामले की सुनवाई कर रही टाडा अदालत ने कहा कि संजय एक आतंकवादी नहीं है और उन्होंने अपने घर में गैरकानूनी रायफल अपनी हिफाजत के लिए रखी थी। संजय पर टाडा के आरोप खत्म कर दिए गए और उन्हें आर्म्स एक्ट के तहत दोषी करार दिया गया।

एक समय ऐसा भी आया जब ड्रग्स की चपेट में आ गये थे संजय
संजय की जिंदगी में दुखों का पहाड़ तब डूबा जब उनकी मां नरगिस का निधन हो गया। अचानाक हुई मां की मौत ने संजय की जिंदगी में भूचाल ला दिया। मां की मौत के बाद संजय पूरी तरह ड्रग्स के नशे में डूब गए। इस लत ने संजू को अंदर से पूरी तरह खोखला कर दिया था। हालांकि, पिता सुनील दत्त ने अपने लाडले को इस तरह बर्बाद होते देख उन्हें सुधारने के लिए दिन-रात एक कर दिया। सुनील इलाज के लिए संजू को अमेरिका ले गए, जहां दो साल के इलाज के बाद उनकी वापसी मायानगरी में हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

14 − ten =