ट्रैफिक नियमों की जागरुकता के साथ मंत्री ने पीएम मोदी और कलाम को लेकर दिया ऐसा उदाहरण

लखनऊ। राजधानी मे सिटी मॉण्टेसरी स्कूल गोमती नगर से सड़क सुरक्षा जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन बुधवार को किया गया। इस दौरान उन्होंने बच्चों को यातायात नियमों का पालन करने के लिए जागरुक किया गया। इस मौके पर परिवहन राज्य मंत्री स्वतंत्र देव ने कहा कि बच्चे देश का भविष्य होते हैं। इन्हीं से भविष्य के पीएम मोदी व अब्दुल कलाम पैदा होते है। बच्चे स्वयं के साथ-साथ अपने माता-पिता को भी हेल्मेट व सीटबेल्ट लगाने के लिए आग्रह करें। उन्होंने कहा कि बच्चे अपने देश, समाज, परिवार का भविष्य हैं, उन्हें स्वयं यातायात नियमों का पालन करना है और आसपास के लोगों को भी सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक करना है। उन्होंने बच्चों से कहा कि जो वैन चालक यातायात नियमों व सड़क सुरक्षा उपायों का पालन न करें, सीट बेल्ट आदि न लगाये, तो ऐसे वाहन पर सवारी न करें। मंत्री ने बच्चों से ये भी कहा कि वाहन चलाते समय किसी भी व्यक्ति को मोबाइल से बात नहीं करनी चाहिए। इससे दुर्घटना हो सकती है। ऐसे में अगर अचानक दुर्घटना होती है तो आगे पीछे चलने वालों को भी दुर्घटना का शिकार होना पड़ सकता है। इस मौके पर मंत्री ने अधिकारियों के साथ लोगों को पंपलेट और लीफलेट देकर उन्हें यातायात नियमों के बारे में बताया। इस मौके पर कई कारचालकों और दुपहिया वाहन चालकों को से यातायात नियमों का पालन करने की अपील भी की।
यूपी में खौफनाक है सड़क हादसों में मौतो के आकड़े
मंत्री स्वतंत्र देव ने बच्चों और सभी शिक्षकों को वह आकड़े भी बताये जो भयावह थे। उन्हेंने कहा कि मुझे अफसोस है कि बीते 2017 में प्रदेश के सभी जनपदों के मिलाकर अलग-अलग हुए सड़क हादसो में 22142 लोगों की मौत हो गयी। ऐसे में आगे ऐसी घटनाएं न हो इससे लोगों को सबक लेना चाहिए। उन्होंने इसी संख्या के आधार पर देखे तो जो आकड़े निकल कर सामने आये हैं उसे अगर अब नहीं चेते तो आने वाले दिनों में सड़क हादसों बढ़ोत्तरी ही होना है। उन्होंने कहा कि यूपी प्रति ढाई घंटे पर एक व्यक्ति की मौत सड़क हादसे से हो जाती है। उन्होंने कहा कि शिक्षकों और अभिभावकों की भी जिम्मेदारी है कि वह याता नियमों के प्रति बच्चों को जारुक करते रहें।

सड़क सुरक्षा के लिए मंत्री ने बताया ये नियम

-गाड़ी चलाते समय न करें मोबाइल का प्रयोग
-सड़क पार करते समय दायें और बायें दोनो तरफ देख लेनाा चाहिए।
-सड़क पर बने जेब्रा क्रासिंग पर से ही सड़क पार करें।
-रात्रि में 3 से 5 बजे तक वाहन चलाने मेंं बरते सावधानी।
-बच्चों के साथ कर जा रहें लंबी दूरी पर तो संभल कर चलाये गाड़ी।
-लंबी दूरी पर वाहन बीच-बीच में रूककर चलायें।
-स्कूल व कालेजों में बच्चों को हेल्मेट व लाइसेंस बिना गाड़ी न चलाने दिया जाये।
-16 साल से अधिक उम्र के छात्रों को नान-गियर वाले वाहन चलाने चाहिए।
-18 साल से अधिक उम्र के छात्र/छात्राओं को ही गियरयुक्त गाड़ी ही चलाने दिया जाये।

बच्चों ने की मंत्री से जेब्रालाइन बनवाने की अपील
यातायात नियमों के प्रति बच्चों को जागरुक करते समय मंत्री स्वतंत्र देव सिंह से बच्चों ने शिकायत भी की। शिकायत में बच्चों ने कहा कि मंत्री जी लखनऊ में बुहत सारी सड़के हैं जहां पर जेब्रा क्रासिंग बनी ही नहीं है। बच्चों ने कहा कि बहुत सारी सड़के ऊबड़ खाबड़ भी और कुछ सड़कों व पुलिया पर सचेत करने के लिए साइन बोर्ड भी नहीं लगे हैं। जहां लोग अक्सर हादसों का शिकार हो जाते हैं। मंत्री ने बच्चों की इस शिकायत को संज्ञान लेते हुए जिम्मेदार अधिकारियों को तत्काल जेब्रा लाइन और तमाम खामियों को पूरा करने के निर्देश भी दिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × three =