टू जी घोटाले के सभी आरोपी बरी, एक लाख 76 हजार का बताया गया था घोटाला

दिल्ली-लखनऊ। कांग्रेस शासनकाल में हुए 2 जी घोटाले के सभी आरोपियों को अब बरी कर दिया गया है। सभी आरोपी पर्याप्त सबूतों के आभाव में बरी हुए है। इस घोटाले के सामने आने के बाद कांग्रेस सरकार को काफी किरकिरी झेलनी पड़ी थी। इसका इफेक्ट लोकसभा चुनाव पर भी पड़ा था। इस घोटाले में मुख्य आरोपी रहे पूर्व टेलीकॉम मंत्री ए राजा और डीएमके नेता कनिमोंझी समेत 19 आरोपियों को सुप्रीम कोर्ट ने बरी कर दिया है। इस घोटाले के सभी आरोपियों के बरी होने के बाद कांग्रेस के दामन से टू जी घोटाले का दाग भी मिट गया है। ये पूरा मामला सीबीआई के पास था। कोर्ट ने सीबीआई को फटकार भी लगायी है।

कब सामने आया था टूजी घोटाला
2०1० में सीएजी महालेखाकार और नियंत्रक की रिपोर्ट जारी हुई थी। इस रिपोर्ट में टू जी घोटाले का चिट्ठा सामने आया था। इस घोटाले में 2०11 में सुनवाई भी शुरू हो गयी थी। सीएजी की रिपोर्ट में कहा गया था कि स्पेक्ट्रम की नीलामी नहीं की गई, बल्कि इसे कंपनियों को ‘पहले आओ, पहले पाओ’ के आधार पर बांटा गया था। इससे सरकार को एक लाख 76 हजार करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। बताया गया था कि अगर नीलामी के आधार पर लाइसेंस बांटे जाते तो ये रुपए सरकार के खजाने में जाते।

ए राजा और कनिमोंझी पर ये था आरोप
ए-राजा पूर्व टेलीकॉम मंत्री-उन्होंने साल 2००1 में तय रेट के हिसाब से लाइसेंस बांटे गये। साथ ही पंसदीदा कंपनियों को लासेंस दिया गया। इस मामले में ए राजा को जेल भी जाना पड़ा था। जिसके बाद वह जमानत पर बाहर थ्ो। लेकिन अब बरी कर दिए गये हैं।

कनिमोझी- तामिलनाडू के पूर्व मुख्यमंत्री एम करूणाधि की बेटी हैं कनिमोझी इन्हें भी इस मामले में जेल की हवा खानी पड़ी थी। बाद में जमानत पर रिहा कर दिया गया था। सीबीआई ने टूजी घोटाले में इन्हें आरोपी बनाया था।

फैसले के बाद किसने क्या कहा आगे विस्तार से पूरी रिपोर्ट थोडी देर में

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 3 =