नहीं रहे रानी मुखर्जी के पिता, ठीक नहीं थी तबियत

लखनऊ। बॉलीवुड अभिनेत्री रानी मुखर्जी के पिता का आज सुबह करीब साढ़े चार बजे निधन हो गया। बताया जा रहा है उनका रक्तचाप तेजी से घट रहा था। उनकी तबियत काफी समय से भी नहीं ठीक थी। जिसके बाद इलाज के लिए उन्हें मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वे 84 साल के थे। उनका अंतिम संस्कार विले पार्ले स्थित पवन हंस श्मशान भूमि पर किया गया। उनकी अंतिम यात्रा में दामाद प्रोड्यूसर आदित्य चोपड़ा, आमिर खान, रणवीर सिह, रानी मुखर्जी, कृष्णा मुखर्जी, आशुतोष गोवारिकर, अर्जुन कपूर की बहन अंशुला कपूर सहित अन्य सेलेब्स शामिल हुए।

राम मुखर्जी लंबे समय से बीमार थे। वे हिदी और बंगाली सिनेमा के जाने-माने डायरेक्टर, प्रोड्यूसर और राइटर रहे। उनके पिता रवीन्द्र मोहन मुखर्जी हिमालया स्टूडियो के फाउंडर्स में से एक थे। रवीन्द्र मोहन मशहूर डायरेक्टर शशधर मुखर्जी के भाई थे। उन्होंने 1996 में बेटी रानी मुखर्जी की डेब्यू बंगाली फिल्म ‘बियेर फूल’ को डायरेक्ट किया था। इसके बाद 1997 में रानी मुखर्जी ने ‘राजा की आएगी बारात’ से बॉलीवुड डेब्यू किया। इसे राम के होम प्रोडक्शन के बैनर तले ही बनाया गया था। राम की पत्नी कृष्णा प्लेबैक सिगर हैं और बेटा राजा एक्टर और डायरेक्टर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 × five =