20 अप्रैल से यूपी के दफ्तरों में शुरू होगा काम, आराम कर रहे अधिकारियो को आना होगा ​आफिस

लखनऊ। लॉकडाउन के चलते घर पर आराम फरमा रहे अधिकारियों और कर्मचारियों को अब आगामी सोमवार से दफ्तर आना होगा। कामकाज को गति देने के लिए प्रदेश सरकार ने सरकारी दफ्तरों को खोलने के वास्ते गाइड लाइन जारी कर दी है। अभी 33 फीसदी स्टाफ को ही दफ्तर में बुलाया जाएगा। शेष अधिकारी व कर्मचारी दूरभाष पर दफ्तर के संपर्क में रहेंगे, जिससे आवश्यकता पड़ने पर कभी बुलाया जा सके। वहीं आकस्मिक सेवाओं के अधिकारी और कर्मचारी जिस तरह से लॉक डाउन में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। वह उसी तरह से अपनी सेवाएं देते रहेंगे।
मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी की ओर से जारी आदेश के मुताबिक सोमवार से दफ्तरों में विभागाध्यक्ष के अतिरिक्त समूह क और ख श्रेणी के लोग आएंगे, जो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करेंगे। शर्त यह है कि दफ्तर में 33 फीसदी अधिकारियों व कर्मचारियों की उपस्थिति अनिवार्य है। अगर 33 फीसदी कर्मचारियों की उपस्थिति नहीं होती है तो समूह ग व घ के कर्मचारियों को दफ्तर बुलाया जाएगा। इसके लिए विभागाध्यक्ष को रोस्टर बनाना होगा, जिससे प्रत्येक कार्यदिवस में अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रह सकें। इसके अलावा पुलिस होमगार्ड, सिविल डिफेंस, अग्निशमन, आवश्यक सेवाएं आपदा प्रबंधन, कारागार और नगर निकाय पहले के अधिकारी व कर्मचारी पहले की तरह काम करते रहेंगे। गाइड लाइन में जिला प्रशासन, ट्रेजरी के कार्यों के लिए आवश्यकतानुसार कार्मिकों की शासकीय व्यवस्था करने को कहा गया है। उत्तर प्रदेश रेजिडेंट कमिश्नर कार्यालयों को भी कोविड-19 को देखते हुए निर्देश दिया गया है कि प्रतिबंधों को ध्यान में रखते हुए किचन संचालित किया जा सकता है। संक्रमण से प्रभावित क्षेत्रों में कार्यालयों को बंद किए जाने के संबंध में जिला प्रशासन से स्तर पर अलग से निर्णय लिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 − eight =