यूपी बोर्ड एग्जाम 2019-20- तीस नवंबर तक जारी होगी केन्द्रों की, वेबकास्टिंग का कराने की तैयारी

file photo 2019 board exam
-सभी जिलों के अधिकारियों के लिए दिशा निर्देश जारी, लापरवाही हुई तो होगी कार्रवाई
लखनऊ। यूपी बोर्ड हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं के लिए केन्द्रों की सूची 30 नवंबर तक जारी करने की तैयारी है। इससे पहले सभी 20 नवंबर तक सभी जिलों के जिला विद्यालय निरीक्षकों को स्कूलों का चयन करके सूची भेजनी होगी। अधिकारियों के मुताबिक तय समय से सूची जारी हो ताकि केन्द्रों की आपत्तियां दूर की जा सकें। इसके साथ ही इस बार सभी केंद्रों की वेबकास्टिंग होगी। इसके लिए हर जिले में कंट्रोल रूम बनेगा। वहीं लखनऊ में बैठकर किसी भी किसी गांव के स्कूल का लाइव प्रसारण देखा जा सकेगा। राज्य सरकार ने हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की 2020 की बोर्ड परीक्षाओं के लिए केंद्र निर्धारण नीति जारी कर दी है। 30 नवंबर तक केन्द्र निर्धारण कर सूची जारी कर दी जाएगी। इससे पहले 2019 की परीक्षा में बोर्ड ने प्रयोग के तौर पर अलीगढ़, बुलंदशहर और प्रयागराज के कुछ केंद्रों की वेबकास्टिंग की थी लेकिन 2020 की परीक्षा में सभी स्कूलों में सीसीटीवी, वायस रिकार्डर और राउटर अनिवार्य कर दिया है ताकि वेबकॉस्टिंग की जा सके। इस बार भी परीक्षा केंद्रों का निर्धारण मेरिट के हिसाब से होगा। विभिन्न मानकों पर स्कूलों को नम्बर दिए जाएंगे। इसी आधार पर केंद्र निर्धारण होगा। सीसीटीवी, वायस रिकार्डर, डीवीआर और राउटर होने की स्थिति में स्कूल को 50 नंबर दिए जाएंगे। इसी तरह 22 बिन्दुओं पर स्कूलों को नंबर दिए जाएंगे। मेरिट में जो स्कूल ऊपर होंगे उन्हें परीक्षा केंद्र बनाने के लिए कहा गया है। अपर मेरिट के लिए कई मानक तय रखे गए हैं। मसलन, इंटरमीडिएट तक के विद्यालयों को 10 अंक और हाई स्कूल को 5 अंक, मुख्य प्रवेश द्वार पर लोहे का गेट लगा होने पर 10, अग्निशमन उपकरण के लिए 10 अंक, मुख्य संपर्क मार्ग से जुड़ाव होने पर 20 नंबर आदि। वहीं इन सुविधाओं के नहीं होने पर जीरो अंक दिया जाएगा। पिछले वर्ष हाईस्कूल और इंटरमीडिएट का परीक्षा फल 90-90 फीसदी से अधिक होने पर 10-10 अंक दिए जाएंगे।
स्कूलों के नाम अंकों के हिसाब से तय होंगे
स्कूलों की सूची अंकों के हिसाब से तय की जाएगी और मेरिट के मुताबिक केन्द्रों का निर्धारण होगा। प्राप्त अंकों के आधार पर 10 किलोमीटर की परिधि के तहत विद्यालयों की मेरिट लिस्ट तैयार होगी और इसके बाद ही परीक्षा केंद्रों का चयन ऑनलाइन होगा। शहरी और ग्रामीण क्षेत्र दोनों में ही बालिकाओं के स्कूलों को यदि परीक्षा केंद्र बनाया गया है तो उन्हें उसी स्कूल में केंद्र आवंटित किया जाएगा।

परीक्षा केन्द्रों की सूची तय समय पर जारी की जायेगी ताकि कोई भी आपत्ति होने पर उसका समय से निस्तारण किया जा सके। परीक्षा के दौरान पूरी पारदर्शिता भी बनी रहे
नीना श्रीवास्तव सचिव माध्यमिक शिक्षा परिषद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − thirteen =