एकेटीयू में शुरू हुआ दो दिवसीय लिटरेरी, मैनेजमेंट कार्यक्रम, आठ जोन के 223 प्रतिभागी हो रहे शामिल

लखनऊ। डॉ एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विवि में शुक्रवार को विवि के कुलपति प्रो. विनय कुमार पाठक की अध्यक्षता में दो दिवसीय डॉ अब्दुल कलाम टेक्निकल, लिटरेरी एवं मैनेजमेंट स्टेट लेवल का शुरूआत हुई। इस अवसर पर सेंटर फॉर एडवांस स्टडीज के निदेशक प्रो. मनीष गौड़ ने बताया कि फेस्ट में आठ जोन के 235 प्रतिभागी शामिल हो रहे हैं, जिसमें 178 छात्र और 57 छात्राएं शामिल हैं, स्टेट लेवल फेस्ट में कुल तेरह प्रतियोगिताएं आयोजित की जा रही हैं, जिसमें जस्ट ए मिनट, फ्रूगल इंजीनियरिंग, बिजनेस प्लान, डिबेट (हिंदी एवं अंग्रेजी), वाक्य रचना, रोबो रेस, ब्रिज कृति, क्विज,डम्ब चैरेडस ओं बुक्स, टेक्निकल पोस्टर, कोडिंग कांटेस्ट, वोर्किंग मॉडल एक्जीबिशन एवं रोबो वॉर आदि शामिल हैं
विवि के कुलपति प्रो. विनय कुमार पाठक ने कहा कि एनबीए एक्रीडिशन के लिए एक मुख्य कड़ी इस तरह के आयोजन भी हैं, उन्होंने आईईटी, लखनऊ की पांच ब्रांचों को एक साथ एनबीए से एक्रिडिटेशन मिलने पर बधाई दी, वर्तमान में इनोवेशन, फ्रूगल इंजीनियरिंग और सृजनात्मक कौशल विकास से से गुणवत्तापूर्ण तकनीकी शिक्षा के लक्ष्य की प्राप्ति की जा सकती है, उन्होंने ने कहा कि जिस तरह से विवि ने स्पोर्ट्स में यूनिवर्सिटी की टीम बनायीं है। ऐसे ही टेक्निकल, लिटरेरी एवं मैनेजमेंट प्रतियोगिताओं में विश्वविद्यालय की टीम का चयन इस स्टेट लेवल फेस्ट से किया जायेगा। विवि की यह टीम विभिन्न टेक्निकल, लिटरेरी एवं मैनेजमेंट राज्य, राष्टï्रीय एवं अंतरराष्टï्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली प्रतियोगिताओ में शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि टेक्निकल, लिटरेरी एवं मैनेजमेंट प्रतियोगिताओं से विवि की टीम में शामिल होने वाले छात्र-छात्राओं को ट्रेनिंग, प्रोटोटाइप विकास एवं इवेंट्स में प्रतिभाग करने का पूर्ण व्यय विवि वहन करेगा।
मुख्य आकर्षण का केंद्र रहे फ्रूगल इंजीनियरिंग के वोर्किंग मॉडल
इस मौके पर प्लास्टिक से फ्यूल बनाने का वोर्किंग मॉडल चर्चा का विषय रहा, इस वोर्किंग मॉडल को जीबी नगर जोन के प्रग्यांस कसौधन, प्रभात सिंह एवं आयुष सिंह ने विकसित किया है, यह वोर्किंग मॉडल के माध्यम से वेस्ट प्लास्टिक से फ्यूल बनाता है। आम एवं आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के जनमानस के लिए हीट ब्लोअर के मॉडल ने भी खूब तारीफे बटोरी, यह वोर्किंग मॉडल लखनऊ जोन के आकास श्रीवास्तव, भूमिका बाजपेई और अभिषेक कुमार मिश्रा ने विकसित किया है, यह बहुत ही कम कीमत पर एयर ब्लोअर के रूप में डेवेलोप किया गया है। इनके साथ ही जनरल परपज वाशिंग मशीन भी आकर्षण का केंद्र रही है, जनरल परपज वाशिंग मशीन का वोर्किंग मॉडल मेरठ जोन के अमन कुमार, सभया एवं मो सलिक ने डेवेलोप किया है, यह वाशिंग मशीन मैकेनिकल ऊर्जा पर आधारित मशीन वर्तमान में काफी उपयोगी साबित हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 4 =