Trains का अब तीन मई तक नहीं होगा पूरे देश में संचालन, टिकट बुकिंग को लेकर भी साफ हुई स्थिति

न्यूज डेस्क। कोविड-19 की वजह से किए गए लॉकडाउन के मद्देनजर जारी उपायों के क्रम में भारतीय रेल की सभी यात्री रेल सेवाओं जिनमें प्रीमियम रेलगाड़ियां, मेल, एक्सप्रेस रेलगाड़ियां, यात्री रेलगाड़ियां, उपनगरीय रेल सेवाएं तीन मई तक रद्द रखने का निर्णय लिया गया है। हालांकि देश के विभिन्न हिस्सों में आवश्यक सामानों की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए माल और पार्सल गाड़ियों का परिचालन जारी रहेगा। अगले आदेश तक किसी प्रकार के टिकटों की कोई बुकिंग नहीं की जाएगी। हालांकि, पहले बुक की जा चुकी टिकटों को रद्द करने की ऑनलाइन सुविधा जारी रहेगी। यूटीएस और पीआरएस सहित सभी टिकट बुकिंग काउंटरों की सेवाएं अगले आदेश तक निलंबित रहेंगी। इसके साथ ही रद्द की गई रेलगाड़ियों के लिए पहले से आरक्षित टिकटों का पूरा रिफंड मिलेगा। अभी तक रद्द नहीं की गई रेलगाड़ियों के लिए पहले से आरक्षित टिकटों को रद्द कराने पर भी पूरा रिफंडदिया जाएगा।

देश भर में लाॅकडाउन की घोषणा के बाद लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन का नजारा, 106 साल में पहली बार थमे हैं रेल के पहिए

ग्राहकों का आॅनलाइन भेजा जायेगा रिफंड
जहां तक 3 मई 2020 तक रद्द की गई ट्रेनों का सवाल है, रेलवे द्वारा रिफंड अपने आप ग्राहकों को ऑनलाइन भेज दिए जाएंगे, जबकि जिन लोगों ने काउंटरों से बुकिंग की है वे अपना रिफंड 31 जुलाई, 2020 तक ले सकते हैं।

कोविड-19 की वजह से किए गए लॉकडाउन के चलते 3 मई 2020 तक सभी यात्री रेल सेवाएं रद्द
यूटीएस और पीआरएस सहित सभी टिकट बुकिंग काउंटरों की सेवाएं अगले आदेश तक निलंबित
ई टिकट सहित सभी तरह की टिकटों का अग्रिम आरक्षण अगले आदेश तक बंद , हालांकि आरक्षण रद्द करने की -ऑनलाइन सुविधा जारी

रद्द की गई रेलगाड़ियों के लिए पहले से आरक्षित टिकटों का पूरा रिफंड देने की व्यवस्था
अभी तक रद्द नहीं की गई रेलगाड़ियों के लिए पहले से आरक्षित टिकटों को रद्द कराने पर भी मिलेगा पूरा रिफंड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × one =