पेपर लीक की सोची समझी थी साजिश, अक्टूबर में हुई थी डील, करोड़ों का था मामला, कई बड़ों के नाम भी आ रहे समाने

यूपीटीईटी प्रश्नपत्र लीककांड मामले में एसटीएफ की लगातार जांच जारी है, एसटीएफ अब परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव संजय उपाध्याय को रिमांड पर लेगी, बुधवार की सुबह गिरफ्तारी के बाद एसटीएफ के सामने संजय उपाध्याय ने कई बड़े खुलासे किए हैं। पेपर लीक कराने की पूरी साजिश अक्टूबर माह में ही रच दी गयी थी। सचिव संजय उपाध्याय और आरएसएम लि. के मालिक राय अनूप प्रसाद के बीच नोएडा के एक फाइव स्टार होटल में दो बार मुलाकात हुई थी। यहीं पर डील तय होने के बाद 14 करोड़ रुपये की पर्चा छपाई का टेंडर राय अनूप को दिया गया।
26 अक्टूबर को पर्चा छपने की प्रक्रिया शुरू होते ही पेपर लीक करने की साजिश को भी अमलीजामा पहनाना शुरू कर दिया गया था। यह सब कुछ एसटीएफ के अफसरों के सामने संजय उपाध्याय ने पूछताछ में उगला। एसटीएफ को कई और महत्वपूर्ण जानकारियां हाथ लगी है जिसके आधार पर आगे कुछ और लोगों की गिरफ्तारी का दावा किया जा रहा है।

वीडियो फुटेज दिखाते ही चौंके
एसटीएफ ने जब संजय उपाध्याय से राय अनूप के बारे में पूछा गया तो पहले वह ज्यादा मुलाकात होने से इनकार करते रहे। फिर कहा कि टेंडर प्रक्रिया के बारे में भी एक बार मुलाकात हुई थी। इसके बाद फाइव स्टार होटल से हासिल की गई वीडियो फुटेज जब एसटीएफ ने सचिव संजय उपाध्याय को दिखायी तो वह परेशान हो उठे। एसटीएफ के एक अधिकारी ने बताया कि इसके बाद उन्होंने कई बातें कुबूल की। यह भी खुलासा हुआ कि जून में प्रयागराज में तैनाती से पहले संजय नोएडा में तैनात थे। तब राय अनूप प्रसाद से उनका परिचय हुआ था।

कुछ और चेहरे बेनकाब होंगे
एसटीएफ के एक अधिकारी ने दावा किया है कि बुधवार को कई जानकारियां सामने आयी है। इनकी पड़ताल पूरी होते ही कुछ और चेहरे बेनकाब होंगे। बताया जाता है कि नियामक प्राधिकरण के दो कर्मचारियों की भूमिका भी खंगाली जा रही है। इस बारे में पता करने के लिये ही संजय उपाध्याय को रिमांड पर लिया जायेगा।

शादी के कार्ड छापने वाले प्रेस को दिया काम
एसटीएफ की जांच में यह भी सामने आया कि आरएसएम लि. के निदेशक बने राय अनूप ने पेपर छपाई का काम दिल्ली की एक प्रिन्टिंग प्रेस के मालिक विक्रम को दिया था। यहां पड़ताल करने में एसटीएफ को पता चला कि इस प्रेस में तो शादी के कार्ड छपते हैं। इसी तरह से राय अनूप ने नोएडा व कोलकाता की एक प्रिन्टिंग प्रेस में पेपर छापने का काम दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

14 − fourteen =