आईआईटी कानपुर के सहयोग से निखरेगा प्रदेश के युवाओं का भविष्य

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) कपिल देव अग्रवाल से आज यहां सचिवालय स्थित उनके कार्यालय कक्ष में आईआईटी कानपुर के स्टार्टअप इनक्यूबेशन व इनोवेशन सेंटर के सीईओ डॉ. निखिल अग्रवाल व प्रोफेसर अमिताभ बंदोपाध्याय ने मुलाकात की। मुलाकात के दौरान उप्र में कौशल विकास से संबंधित विभिन्न संभावनाओं व प्रस्तावों पर बातचीत हुई। मंत्री कपिल देव अग्रवाल ने कौशल विकास के मौजूदा प्रशिक्षण व प्रदेश सरकार की आईटीआई व्यवस्था की गुणवत्ता सुधारने के लिए आईआईटी कानपुर के प्रतिनिधियों से जनहित में सहयोग का आह्वान किया।
व्यवसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार इज ऑफ डूइंग बिजनेस, स्किल इंडिया व पांच ट्रिलियन डॉलर इकॉनॉमी के देश के लक्ष्य जैसे अनेक प्रयासों से उद्योग-कारोबार को बढ़ाने का प्रयास पूरे मनोयोग से कर रही है। देश में उद्योग की आवश्यकता के अनुसार हुनरमंद कामगारों की कमी है। जिसे पूरा करना प्रदेश सरकार की प्राथमिकता है। साथ ही स्वावलंबन पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि शिक्षा नौकरी नहीं बल्कि नेतृत्व पैदा करने वाली होनी चाहिए। जिससे छात्र नौकरी ढूंढने के बजाए खुद का रोजगार शुरू करने के लिए प्रोत्साहित हों।
सस्ती मोबाइल बैट्री तैयार करने में अहम भूमिका
आईआईटी कानपुर के डॉ निखिल अग्रवाल व प्रोफेसर अमिताभ ने बताया कि कॉलेज के इनोवेशन सेंटर की मदद से अनेकों युवा लाभान्वित हुए हैं व उल्लेखनीय कार्य कर रहे हैं। जिनमें सस्ती मोबाइल बैट्री की तकनीक के अविष्कार, सामान डिलेवर करने वाले छोटे ड्रोन से लेकर पूजा के फूलों से अगरबत्ती व अन्य उत्पादों का निर्माण शामिल है। उन्होंने कहा प्रशिक्षण के तौर तरीकों को सुधारने, छात्रों के शैक्षिक स्तर के मूल्याँकन व फैब्रीकेशन तकनीक के क्षेत्र में आईआईटी कानपुर प्रदेश सरकार को सहर्ष सहयोग दे सकता है।
मंत्री कपिल देव ने कहा कौशल विकास व रोजगार जैसे जनहित के महत्वपूर्ण कार्यों में आईआईटी कानपुर जैसी प्रतिष्ठित संस्था का सहयोग मिलना विभाग के लिए गौरव का विषय है। उन्होंने बैठक के प्रस्तावों की विस्तृत रूपरेखा तैयार कर उसे मूर्त रूप देने की दिशा में आवश्यक कदम उठाए जाने के लिए अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। इस अवसर पर कौशल विकास विभाग के निदेशक कुणाल सिल्कू व संयोजक ग्लोबल टैक्सपेयर्स ट्रस्ट के चेयरमैन मनीष खेमका भी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 − 1 =