निर्भया के चारों दोषियों को फांसी होना तय, दोषी पवन के नाबालिग होने की दायर याचिका खारिज, कल सुबह होनी है फांसी

न्यूज डेस्क। दिल्ली गैंगरेप और मर्डर का शिकार हुई निर्भया के चारो आरोपियों की फांसी लगभग तय हो गयी है। गुरूवार को आरोपी पवन गुप्ता की ओर से दायर याचिका कि वह घटना के वक्त नाबालिग था इस सुनवाई करते हुए 6 जजों की बेंच ने इसे खारिज कर दिया है। इस तरह से पूर्व में जारी चैथा डेथवारंट के मुताबिक शुक्रवार की सुबह साढे पांच बजे फांसी होना तय है। चारों दोषियों (विनय कुमार शर्मा, पवन कुमार गुप्ता, मुकेश सिंह और अक्षय कुमार सिंह) को शुक्रवार सुबह फांसी लगना करीब-करीब तय हो गया है। पूरा मामला बीते वर्ष 2012 में 16 दिसंबर की रात दिल्ली के वसंत विहार इलाके में 23 वर्षीय पैरामेडिकल की छात्रा निर्भया के साथ छह दरिंदों ने चलती बस में सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया था। बाद में उसकी मौत होगी गई थी।

कोर्ट में पवन गुप्ता के वकील ने रखा ये पक्ष
गुरूवार को कोट में सुनवाई के दौरान आरोपी पवन गुप्ता के नाबालिग होने की बात को लेकर उसके वकील ने अपना पक्ष रखते हुए कोर्ट बताया कि वह वह घटना के दिन नाबालिग था, इसलिए उसकी सजा को उम्रकैद में बदल दिया जाये। बता दे ं कि निर्भया के चारों दोषियों पवन कुमार गुप्ता, विनय कुमार शर्मा, मुकेश सिंह और अक्षय कुमार सिंह पर शुक्रवार सुबह 5ः30 बजे फांसी दी जानी है। दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट इस बाबत डेथ वारंट भी जारी कर चुका है। दोषी पवन कुमार गुप्ता ने अपनी सुधारात्मक याचिका में तर्क दिया था कि 16 दिसंबर, 2012 की रात को जब दिल्ली के वसंत विहार इलाके में चलती बस में निर्भया के साथ सामूहिक दुष्कर्म हुआ था, तब वह नाबालिग था।

फांसी के खिलाफ होगी एपी सिंह की याचिका पर सुनवाई

वहीं, चारों दोषियों को बचाने के लिए वकील एपी सिंह ने फांसी पर रोक लगाने के लिए दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में याचिका भी दायर कर दी है, जिस पर बृहस्पतिवार सुनवाई चल रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen − two =