शिक्षक दिवस के मौके पर प्रेरणा ऐप के खिलाफ शिक्षकों ने खोला मोर्चा, घेरा बीएसए कार्यलय

लखनऊ। शिक्षक दिवस के मौके पर कई शिक्षक संघठनों ने गुरूवार को राजधानी समेत कई जनपदों में प्रेरणा ऐप के विरोध में प्रदर्शन किया। कई शिक्षक संघठनों ने शिक्षक दिवस को सम्मान बचाओ दिवस के रूप में मनाया। शिक्षकों की मांग है कि सरकार द्वारा तरह तरह के प्रयोग शिक्षको पर किये जा रहे जो बन्द होने चाहिए। विरोध कर रहे शिक्षकों का कहना है कि सरकार द्वारा प्राथमिक विद्यालयो के शिक्षकों द्वारा प्रेरणा एप के माध्यम से बच्चो के साथ सेल्फी लेकर उपस्थिति दर्ज करवाना गलत है।
बेसिक शिक्षा अधिकारी लखनऊ के कार्यालय पर प्रदर्शन करते हुए शिक्षकों ने प्रेरणा एप का जोरदार विरोध किया। साथ ही शिक्षकों पर उत्पीडऩ का भी आरोप लगाया। शिक्षकों का कहना है कि शिक्षक विद्यालयों में शिक्षण कार्य के अलावा अन्य काम भी करते हैं। इस मौके पर उत्तर प्रादेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष्ष डा. दिनेश चन्द्र शर्मा ने कहा कि बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत शिक्षक निरंतर बेसिक शिक्षा को स्तर पर ले जाने का प्रयास करते हैं, उन्होंने कहा पूरे प्रदेश में शिक्षक विद्यालयों की तस्वीर बदलने का कार्य कर रहे हैं। लेकिन फिर भी उनको प्रताडि़त करने का काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कहा प्रदेश के एक लाख 27 हजार विद्यालयों में प्रधानाध्यापकों के पद समाप्त कर दिए गये हैं, जिससे भविष्य में शिक्षकों की पदोन्नति भी रूक गयी है, इसके साथ ही शिक्षकों का काम पढ़ाने का है लेकिन उन पर विद्यालय की सभी जिम्मेदारियां डाल दी गयी हैं। जिमसें मध्यान्ह भोजन, यूनिफॉर्म वितरण, किताबों का वितरण आदि काम शिक्षकों से ही कराये जाते हैं, इसके साथ ही चुनाव कार्य जनगणना कार्य समेत सभी कार्य शिक्षकों से ही लिए जाते हैं उसके बाद भी शिक्षकों की उपस्थिति को लेकर शक किया जाता है। वहीं इस ऐप के विरोध में लखनऊ के साथ-साथ, सीतापुर, हरदोई, बलिया, बांदा, गोंडा, लखीमपुर, मिर्जापुर, बाराबंकी समेत कई जिलों में प्रदर्शन हुए। हालांकि इस बारे में अधिकारियों का कहना है कि जो लापरवाह शिक्षक हैं वही इसका विरोध कर रहे हैं बाकी काफी सख्ंया में शिक्षकों ने इसका समर्थन किया है।
एप न डाउनलोड करने की अपील
सरकार की ओर से लांच किए गये प्रेरणा ऐप को न डाउनलोड करने की अपील की गयी है। इस ऐप के विरोध में प्रदेश के अधिकांश शिक्षक संघठन मैदान में उतरे हैं, वहीं माध्यमिक शिक्षक संघ ने भी शिक्षकों से प्रेरणा ऐप न डाउनलोड करने की अपील की है। संघ के प्रवक्ता आरपी मिश्रा ने कहा कि प्रेरणा ऐप को जबरन शिक्षकों पर थोपा जा रहा है, ये शिक्षकों का सम्मान नहीं अपमान है, शिक्षकों की कार्यप्रणाली पर शक है।
शिक्षकों ने दी बड़े आंदोलन की चेतावनी
गुरूवार को ऐप का विरोध करते हुए शिक्षकों ने एक बड़े आंदोलन की भी चेतावनी दी है। विरोध कर रहे शिक्षको का कहना है कि सरकार द्वारा रोज़ रो उन पर तरह तरह के प्रयोग किये जा रहे है जो गक्त है। अब सरकार ने प्रेरणा एप को लाकर शिक्षको के सम्मन के साथ खिलवाड़ करने का काम किया है जो स्वीकार नही किया जाएगा। यदि सरकार अपने फैसले से पीछे नहीं हटी तो जोरदार प्रदर्शन किया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fourteen − eight =