गन्ना किसानों को इस तरह से मिलेगा मूल्य, चीनी भी मिल सकेगी

लखनऊ। गन्ना किसानों के लिए प्रदेश सरकार ने अच्छा विकल्प दिया है। जिन किसानों को गन्ना मूल्य की जगह चीनी लेना है वह चीनी भी ले सकते हैं। इस बारे में जानकारी देते हुए चीनी उद्योग व गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा ने शनिवार को बताया कि चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास विभाग कोरोना महामारी की इस देशव्यापी विभीषिका के दौरान भी गन्ना किसानों के आर्थिक हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। इसलिए किसानों को राहत देने के लिए ये विकल्प दिया गया है। वहीं इस बारे में बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए प्रदेश के आयुक्त संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि गन्ना कृषकों की ओर से चीनी उपलब्ध कराये जाने की मांग को ध्यान में रखते हुए ये निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया कि पेराई सत्र 2019-20 के अन्तर्गत चीनी मिलों की ओर से इच्छुक आपूर्तिकर्ता गन्ना कृषकों को बकाया गन्ना मूल्य के एवज में चीनी की उपलब्धता कराई जाएगी। उन्होंने यह भी बताया की प्रत्येक गन्ना कृषक को एक कुंतल चीनी प्रति माह में उस दिन के चीनी के न्यूनतम बिक्री मूल्य और जीएसटी के आधार पर माह जून, 2020 तक उपलब्ध करायी जायेगी, यदि चीनी मिल की ओर से उस दिन कोई चीनी बिक्री नहीं की गई है तो उसके पूर्व दिवस में चीनी के न्यूनतम बिक्री मूल्य तथा जीएसटी के आधार पर कृषकों को चीनी उपलब्ध करायी जायेगी। इच्छुक गन्ना कृषक अपने साधनों के माध्यम से मिल गोदाम से चीनी उठान करेंगें। चीनी प्राप्त करने वाले किसानों को इस बात का ध्यान रखना होगा कि चीनी मिल से उन्हें यातायात व्यव नहीं दिया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

12 − 1 =