लखनऊ में पक्षी तस्करों पर एसटीएफ की कार्रवाई, सात तस्कर दबोचे गये

लखनऊ। लखनऊ में वर्षों से सक्रिय पक्षी तस्करों के एक गिरोह का भंडाफोड़ करते एसटीएफ ने सात लोगों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गये तस्करों के पास से देशी विदेशी सभी प्रकार के कारीब 6०० पक्षी बरामद हुए हैं। एसटीएफ ने ये कार्रवाई वन विभाग की टीम के साथ मिलकर की है। एसटीएफ को सूचना मिली थी कि राजधानी में एक ऐसा गिरोह सक्रिय है जो डिमांड पर कई ऐसे पक्षियों की तस्करी करते हैं जो कि पूरे तरह से प्रतिबन्धित हैं। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिष्ोक सिंह ने बताया कि ने बताया कि पक्षी तस्करों के बारे सूचना मिली थी कि पक्षी तस्करों का गिरोह पिछले काफी समय से सक्रिय है जिसके बाद अपर पुलिस अधीक्षक अरविन्द चतुर्वेदी को निर्देशित किया गया था। डा. चतुर्वेदी ने मुख्य वन संरक्षक, लखनऊ प्रवीण राव के साथ मिलकर प्रारम्भिक पड़ताल से ज्ञात हुआ कि विक्टोरिया स्ट्रीट, थाना चौक, लखनऊ पर अकबरी गेट के पास बहुत लम्बे समय से पक्षियों का व्यापार होता है। यहां पर व्यापारी अप्रतिबन्धित चिड़ियों की आड़ में वन्य जीव अपराध अधिनियम-1972 के शेड्यूल 1 से 4 तक के पक्षियों का व्यापार कर रहे हैं। जिनमें मुख्य रूप से फिंचेज, सिनेबाज, मैना, उल्लू, हार्नबिल शामिल हैं। यह भी पता चला कि मांग के आधार पर ये व्यापारी माइग्रेटेड बर्ड्स भी उपलब्ध करा देते हैं।
सीतापुर और शाहजहां पुर से होती है तोतों की सप्लाई
एसटीएफ टीम को जांच में पता चला कि सबसे ज्यादा सीतापुर, लखीमपुर और शाहजहां पर अधिक तोतों की सप्लाई हो रही है। यहीं से बहेलिया तीतर व बटेर भी सप्लाई करते हैं। बताया जाता है कि यहां से अन्य कई और पक्षियों की भी सप्लाई की जाती है।
बांदा और चित्रकूट से होती है सिनेबाज की सप्लाई
गिरफ्तार अभियुक्तों से पूछताछ में पता चला कि बाजार में सबसे ज्यादा सिनेबाज पक्षी की डिमांड है। इसकी कीमत भी ज्यादा मिलती है। तस्करों ने बताया कि इसकी सबसे ज्यादा चित्रकूट और बांदा के जंगलों के पकड़कर सप्लाई की जाती है। यह भी बात प्रकाश में आयी कि इन व्यापारियों के सम्बन्ध पटना व कोलकाता के व्यापारियों से भी हैं, जहां ऊंचे दामों पर इन पक्षियों की सप्लाई की जाती है। यह आपूर्ति ट्रेनों के माध्यम से किये जाने की जानकारी प्राप्त हुयी, जिसे और अधिक विकसित किया गया।

नख्वाश के बाजार से बरामद हुए पक्षी
पुलिस को साथ लेकर एसटीएफ व वन विभाग की संयुक्त टीम ने थाना चौक क्षेèत्रांतर्गत नक्खास में पक्षी बिक्री के स्थानों पर अचानक छापेमारी की जहां पर कई प्रजातियों के पक्षी बरामद हुये। डीएफओ, लखनऊ मनोज कुमार सोनकर के नेतृत्व में वन विभाग लखनऊ की टीम ने बरामद पक्षियों की पहचान की। पुलिस अधीक्षक, पश्चिमी, लखनऊ विकासचंद्र त्रिपाठी के नेतृत्व में प्रभारी निरीक्षक चौक उमेश चंद्र श्रीवास्तव ने समुचित पुलिस बल के साथ टीम ने मिलकर छापेमारी की।
अवैध पक्षियों से मिलते हैं अधिक दाम
पूछताछ पर आरोपी कैलाशपति बहेलिया ने बताया कि वह अपने पिता राजपति के साथ पिछले कई वर्षों से पक्षियों का कारोबार करता है। उसके बंधे हुये बहेलिया आपूर्तिकताã हैं, जो मांग के अनुसार चिड़ियों का शिकार कर उपलब्ध कराते हैं, जिन्हें ऊंचे दामों पर बेचकर अवैध मुनाफा कमाता है। कैलाशपति ने बताया कि इस बाजार के सबसे पुराने व्यापारी रामऔतार व लाला हैं जो आज छापा पड़ते समय अपनी अपनी दुकानों से भाग गये हैं। रामऔतार का लड़का श्यामधन बहेलिया आज हम लोगों के साथ पकड़ा गया है।

पक्षियों की तस्करी के आरोप में ये हुए गिरफ्तार

1- राजपति बहेलिया पुत्र तुलसीराम निवासी 386/45अ, घंटावेग गढइया, दरगाह रोह, थाना सआदतगंज, लखनऊ।
2-कैलाशपति बहेलिया पुत्र राजपति निवासी 386/45अ, घंटावेग गढइया, दरगाह रोह, थाना सआदतगंज, लखनऊ।
3-श्यामधन बहेलिया पुत्र रामऔतार निवासी 391/45अ, घंटावेग गढइया, दरगाह रोह, थाना सआदतगंज, लखनऊ।
4-कैलाश बहेलिया पुत्र बरातीलाल निवासी घंटावेग गढइया, दरगाह रोह, थाना सआदतगंज, लखनऊ।
5-राजेन्द्र बहेलिया पुत्र तुलसीराम निवासी 3००/86, घंटावेग गढइया, दरगाह रोह, थाना सआदतगंज, लखनऊ।
6-कल्लू कुरैशी पुत्र जैनुल आबदीन निवासी चिकमण्डी, थाना सआदतगंज, लखनऊ।
7-मेराज अंसारी पुत्र कुर्बान निवासी इस्लामिया मदरसा के बगल, न्यू हैदरगंज, थाना ठाकुरगंज, लखनऊ।

ये आरोपी हुए मौके से फरार
1- रामकुमार बहेलिया पुत्र बरातीलाल घंटावेग गढइया, सआदतगंज, लखनऊ।
2-लाला पुत्र ईश्वरलाल निवासी घंटावेग गढइया, सआदतगंज, लखनऊ।
3-रामऔतार पुत्र तुलसीराम निवासी घंटावेग गढइया, सआदतगंज, लखनऊ।

एसटीएफ ने इन पक्षियों को किया बरामद
1- तोता 1०8
2- मुनिया325
3- तीतर35
4- बटेर137
5- गौरैया 4
6- जंगली कबूतर65
7- महोख 1
8- जंगली कौवा 1
9- बगुला 1
1०- हारिल15
11- सलेहरी 2
12- फाख्ता 1
13- टुइयां 21

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fourteen − 4 =