देह व्यापार के लिए लायी जा रही किशोरियों को SSB 42 वीं बटालियन ने बचाया

file fhoto
न्यूज डेस्क। सशत्र सीमा बल ( एसएसबी) ने नेपाल से खाड़ी देशों के लिए देह व्यापार के उदे्दश्य से ले जायी जा रही दो किशोरियों को तस्करों को चुंगल से मुक्त कराया है। एसएसबी 42वी बटालियन की को मानव तस्करी की सूचना मिली थी। साथ ही मानव तस्कर को भी गिरफ्तार कर लिया गया। बरामद किशोरियों को एसएसबी ने नेपाल के शक्ति समूह संस्था की सुपुर्दगी में देकर मानव तस्कर को नेपाली पुलिस को सौंप दिया गया है। अधिकारियों के मुताबिक सोमवार की देर रात को देहात संगठन के कार्यकर्ताओं व पुलिस ने सीमा पर संयुक्त जांच अभियान चलाया। इस दौरान नेपाल की ओर से आ रही दो किशोरियों व एक व्यक्ति को रोककर पूछताछ की गई। पूछताछ में सभी कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। इस पर सभी को एसएसबी कैंप में लाकर पूछताछ की जाने लगी। पूछताछ के दौरान पता चला कि किशोरियों के साथ मौजूद व्यक्ति मानव तस्कर है। जो दोनों को नौकरी दिलाने का झांसा देकर उन्हें अहमदाबाद ले जा रहा था। जहां से उन्हें खाड़ी देश भेजने की तैयारी थी। आरोपी तस्कर लोकेंद्र खत्री पुत्र खेम बहादुर जिला सल्यान वार्ड नंबर 11 ग्राम टेके का रहने वाला है। उसने पूछताछ में बताया कि बरामद किशोरी एंजिला (14) पुत्री उपेंद्र चंद्र ठकुरी गांव दमचैर गैरी वार्ड नंबर 22 व रत्ना काला ठकुरी (17) पुत्री मोती मुहल्ला सल्यान वार्ड नंबर चार जिला सल्यान की रहने वाली है। कमांडेंट ने बताया कि तस्करों पर शिकंजा कसने के लिए रणनीति भी बनाई गई। सीमा पर तैनात जवानों को 24 घंटे सतर्क रहने के साथ सीमा पर पेट्रोलिग भी बढ़ाई गई है।
मानव तस्करी की सूचना मिली थी, जिस पर जवानों को सघन चेकिंग अभियान चलाने के आदेश दिए गये थे। जिसके बाद तस्कर को दबोच लिया गया और बच्चियों को सुरक्षित बचा लिया गया।
प्रवीण कुमार कमांडेंट एसएसबी 42वीं बटालियन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × 1 =