सपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा का निधन, जानिए उनका कैसा रहा है नेतृत्व

न्यूज डेस्क। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री रहे बेनी प्रसाद वर्मा का शुक्रवार को निधन हो गया। बताया जा रहा है कि वह काफी समय से लंबी बीमारी से जूझ रहे थे और उनका निधन लखनऊ के एक अस्पताल में इलाज के दौरान हुआ है। उनके निधन की पुष्टि समाजवादी पार्टी कार्यालय की ओर से जारी अधिकारिक बयान में की गयी है।
पांच बार सांसद रह चुके हैं बेनी प्रसाद
एक बुलंद आवाज के नाम से पहचाने जाने वाले बेनी प्रसाद वर्मा पांच पर सांसद रह चुके हैं। यही कारण है कि यूपी की राजनीति में उनका भी एक अलग कद था। सांसद रहते हुए उनके क्षेत्र के लोगों का उनपर बहुत भरोसा था। बताया जाता है कि उनकी कार्यशैली से सभी ग्रामीण खुश रहते थे, कई बार उन्होंने ग्रामीणों की ऐसी मदद की जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता है।
2009 में सपा से इस्तीफा देकर ज्वाइन की थी कांग्रेस
बेनी प्रसाद वर्मा ने 2009 में इस्तीफा देकर कांग्रेस ज्वाॅइन की थी। वह यूपीए सरकार में इस्पात मंत्रालय भी संभाल चुके हैं। इसके बाद उन्होंने 2016 में पुनः समाजवाादी पार्टी ज्वाइन की थी।
लोकसभा में बहस के दौरान अटल बिहारी पर की थी टिपप्णी
बेनी प्रसाद वर्मा जब 2009 में लोकसभा पहुंचे तो उन्होंने अपनी बात रखते हुए पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी को लेकर विवादित बयान भी दिया, जिसके बाद काफी हंगामा हुआ। बीजेपी ने लोकसभा की कार्यवाही रूकवा दी थी।
मुलायम के रहे हैं बहुत करीबी
बेनी प्रसाद वर्मा को मुलायम सिंह यादव के बहुत ही करीबी माना जाता है, तभी उन्हें दोबारा 2016 में समाजवादी पार्टी ज्वाॅइन करने का मौका भी मिला था। वह राष्ट्रीय मोर्चा- वाम मोर्चा की एचडी देवगौड़ा सरकार में वो 1996 में संचार राज्‍यमंत्री बने थे। फिर उन्हें संसदीय कार्य राज्‍यमंत्री का भी जिम्मा सौंपा गया। 1998, 1999 और 2004 के लोकसभा चुनाव में वो सपा के टिकट पर कैसरगंज से जीतकर संसद पहुंचे थे।
सपा सरकार में संभाला पीडब्ल्यूडी विभाग
बता दे कि समाजवादी पार्टी की सरकार में उनके पास यूपी का पीडब्ल्यूडी मंत्रलालय रहा है। इस दौरान उन्हें ग्रामीण क्षेत्र की स्कूल जाने वाली सड़कों का प्रमुखता से निर्माण कराया।
बारबंकी थे रहने वाले, समाज थे कुर्मी
काफी सरल स्वभाव की पहचान रखने वाले बेनी प्रसाद वर्मा कुर्मी समाज के थे और वह बारबंकी जिले के रहने वाले थे। वह समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्य भी रहे हैं, पार्टी में उनका एक अलग सम्मान था। बताया जाता है कि पार्टी में उनकी बात को नजरअंदाज नहीं किया जाता था।
79 वर्ष में हुआ निधन, सपा के सभी कार्यकर्ता दुखी
बेनी प्रसाद वर्मा 79 वर्ष थे, उनके जाने के बाद समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से लेकर पूर्व मुख्यमंत्री व सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव भी दुखी हैं। कई नेताओं का कहना है उनकी कमी को कोई पूरा नहीं कर सकेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

19 + seven =