मुख्यमंत्री के तेवर देख नोएडा के डीएम ने जिम्मेदारी से खड़े किए हाथ, मांगी तीन माह की छुट्टी

न्यूज डेस्क। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जहां दिन रात मेहनत कर रहे हैं वहीं प्रशासनिक अफसर जिम्मेदारी से बचते नजर आ रहे हैं। यही कारण है कि मुख्यमंयत्री ने सोमवार को नोएडा पहुंचकर सीएमओ और डीएम को लापरवाही पर फटकार लगायी तो डीएम ने पत्र लिखकर वहां नोएडा में जिलाधिकारी पद पर किसी दूसरे अधिकारी को तैनात किए जाने की मांग और खुद के लिए तीन माह की छुट्टी मांग ली है।
नोएडा पहुंचकर अधिकारियों की क्लास लगायी और कड़े तेवर दिखाते हुए मुख्यमंत्री ने बकवास नहीं चलेगी सभी लोग अपनी-अपनी जिम्मेदारी निभाये। मुख्यमंत्री लगातार कोरोनो वायरस से संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या पर चिंता जतायी। यही कारण है कि वह सोमवार को नोएडा पहुंचे और यहां अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। समीक्षा बैठक में नोएडा के डीएम को लापरवाही के लिए फटकार लगायी और उन्होंने भरी मीटिंग में न केवल प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की क्लास लगाई बल्कि जिम्मेदारों पर कार्रवाई तक के संकेत दे दिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि विदेश से आये लोगों की होनी चाहिए थी निगरानी
बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि विदेश से आये लोगों को लगातार निगरानी होते रहना चाहिए। उन्होंने जिम्मेदार अधिकारियों पर भी कार्रवाई के संकेत दिए। बैठक में सीज फायर कंपनी के ऑडिटर के कारण संक्रमित हुए मरीजों का मामला भी उठा। मुख्यमंत्री की नाराजगी इसी बात को लेकर थी कि सीज फायर कंपनी का लंदन से आया ऑडिटर जब लोगों को कोरोना वायरस का संक्रमण बांट रहा था तो जिले का स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन कहां था।
दोषी कंपनी सीज क्यों नहीं की गयी
अधिकारियों ने बैठक में मुख्यमंत्री को बताया कि दोषी कंपनी पर एफआईआर दर्ज करायी गयी है। इस बात को सुनते ही मुख्यमंत्री ने पूछा कि अभी तक सिर्फ एफआईआर से ही काम नहीं चलेगा अभी तक कंपनी सीज क्यों नहीं की गयी है।