सीबीआई के स्पेशल जज लोया मौत मामले की जांच SIT से नही , SC ने लिया निर्णय

न्यूज डेस्क। गुजरात का चर्चित केस इशरतजहां और सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में सुनवाई करने वाले सीबीआई के स्पेशल जज लोया की मौत कैसे हुई थी इसकी जांच एसआईटी नही करेगी। याचिका कर्ताओं की ओर से की गई एसआईटी से जांच की मांग को सुप्रीमकोर्ट ने खारिज कर दिया है। मीडिया खबरों के मुताबिक कोर्ट ने कहा कि एसआईटी से जांच नहीं कराई जाएगी, साथ ही कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को फटकार लगाई कि इससे पहले जज लोया मामले में जजों के फैसलों पर शक नहीं किया जा सकता है। इस तरह के शक से जजों की छवि को खराब करता है।

तीन जजों की बेंच में हुई सुनवाई

गुरुवार को लोया मामले में सुनवाई कर रही तीन जजों की बेंच ने कहा कि जनहित याचिकाएं होती रहनी चाहिए लेकिन इसका दरुपयोग अच्छी बात नही है।

अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने ये भी कहा

● कोर्ट ने माना कि जस्टिस लोया की मौत प्राकृतिक थी।

● सुप्रीम कोर्ट ने PIL के दुरुपयोग की आलोचना की और कहा कि PIL का दुरुपयोग चिंताजनक है।
●याचिकाकर्ता को डांट लगाते हुए कहा ऐसी पीआईएल का उद्देश्य जजों को बदनाम करना है और यह न्यायपालिका पर सीधा हमला है।

●कोर्ट ने कहा कि न्यायालय राजनीति का अखाड़ा नहीं, राजनैतिक प्रतिद्वंद्विताओं को लोकतंत्र के सदन में ही सुलझाना होगा।

●तीन जजों की बेंच में मुख्यन्यायाधीश दीपक मिश्र ने कहा कि यह पीआईएल शरारत भरी है इसका उद्देश्य भी साफ नहीं हो रहा है यह आपराधिक अवमानना है।
●कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने कहा कि हम उन न्यायिक अधिकारियों के बयानों पर संदेह नहीं कर सकते, जो जज लोया की मृत्यु के समय उनके साथ थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nineteen + eighteen =