विज्ञान से मिली हैं समाज को नई दिशाएं-डॉ वीपी कंबोज

-सीएसआईआर-सीडीआरआई में आईआईएसएफ़-2019 के तहत आउटरीच कार्यक्रम
लखनऊ। विज्ञान ने बेहतर जीवन स्तर के लिए समाज को नई दिशाएं दी हैं और वैज्ञानिक हस्तक्षेपों (मध्यस्तता) के कारण ही आज हमारा जीवन इतना आसान हो चुका है। ये बात सीडीआईआर-सीडीआरआई के निदेशक डा. वीपी कंबोज ने कही। डा. कंबोज सीएसआईआर-सीडीआरआई में आईआईएसएफ़-2019 के तहत आउटरीच कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए थे। इस मौके पर कार्यक्रम में विशिष्टï अतिथि प्रोफेसर सोमदेव भारद्वाज ने कहा कि, विज्ञान को समाज से जोडऩे की नितांत आवश्यकता है और इस तरह के आयोजनों से शोधकर्ताओं, नवोन्मेशकों और आम आदमी को एक साथ आने का एक अनूठा मंच मिल रहा है। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि सफल जीवन की तुलना में सार्थक जीवन अधिक महत्वपूर्ण है, इसलिए आने वाली पीढ़ी को अपने करियर की योजना इस तरह से बनानी चाहिए ताकि वे समाज के लिए अधिक प्रासंगिक हो सकें। सीएसआईआर-सीडीआरआई वैज्ञानिकों द्वारा स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों पर लोकप्रिय व्याख्यान आउटरीच कार्यक्रम के छात्रों और प्रतिभागियों को स्वस्थ के प्रत जागरूक एवं संवेदनशील बनाने के लिए तीन लोकप्रिय व्याख्यान दिए गए। डॉ अनिल गायकवाड़ ने स्वस्थ जीवन शैली और चयापचय संबंधी विकारों के बारे में बात की, डॉ पीएन यादव ने युवा आबादी में मनोदशा संबंधी विकारों पर चर्चा की और डॉ दिब्येंदु बनर्जी ने जीन और कैंसर के बारे में जानकारी दी और कैंसर के कारणों और परिणामों पर चर्चा की और साथ ही बताया कि खुद को कैसे इस जानलेवा मीमरी से बचाएं । इस अवसर पर स्थानीय जमीनी स्तर के नवप्रवर्तनशील शोधकर्ताओं, जिन्होंने इसके लिए राज्य और राष्टï्र स्तर पर अपनी पहचान बनाई है और अभिनव विज्ञान शिक्षक, विज्ञान पत्रकार, गैर सरकारी संगठन / व्यक्तिगत रूप से जिन्होंने विज्ञान को लोकप्रिय बनाने में योगदान दिया है,उनको सम्मानित किया गया। छात्रों ने वाद-विवाद, चित्रकला और विज्ञान मॉडल प्रतियोगिताओं में भाग लिया और वैज्ञानिकों के साथ बातचीत करने के साथ ही प्रयोगशालाओं का दौरा किया कार्यक्रम में विद्यार्थियों ने उत्साह से भाग लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × 2 =