प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए पंजीकरण शुरू, लखनऊ में जानिए कहां मिल सकतें है मकान

प्रधानमंत्री आवास योजना (Prime Minister Housing Scheme) के लिए राजधानी में शुक्रवार से पंजीकरण शुरू हो गए। कोरोना काल में एलडीए ने आनलाइन पंजीकरण की व्यवस्था की है। इसके लिए राजधानी में 10 नि:शुल्क सहायता केंद्र बनाये गए हैं। इन केंद्रों पर पहले दिन ही पंजीकरण के लिए लोग जमा हो गए। एलडीए प्रधानमंत्री योजना के तहत शारदा नगर विस्तार व हरदोई रोड योजना के सेक्टर एन में कुल 4512 मकान बना रहा है। दोनों जगह 2256—2256 फ्लैट बनाये जा रहे हैं। फ्लैट की अनुमानित कीमत 6.51 लाख रुपये है। केन्द्र एवं राज्य सरकारों की ओर से कुल 2.5 लाख रुपये की सब्सिडी दी जाएगी। आवंटी को कुल 4.01 लाख रुपये देने होंगे। योजना में पंजीकरण के लिए 5 हजार रुपये जमा करने होंगे। लाटरी में सफल रहने वाले आवेदकों को आवंटन पत्र जारी होने के एक माह के भीतर 45 हजार रुपये तथा शेष धनराशि 6 त्रैमासिक किश्तों में जमा करनी होगी। आवेदक की आय 3 लाख रुपये प्रतिवर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। आवेदनकर्ता को लखनऊ का स्थानीय निवासी होने के साथ अपना कोई पक्का भवन नहीं होना चाहिए। योजना के लिए सूडा से चयनित व्यक्तियों के साथ अन्य लोग भी अपना पंजीकरण करा सकते हैं। ऐसे व्यक्ति सूडा द्वारा सत्यापन के बाद चयनित होने पर ही वह आवंटन के पात्र होंगे।
बॉक्स
इन केंद्रों पर कर सकते हैं नि:शुल्क आवेदन
जनता की सुविधा के लिए एलडीए ने राजधानी में 10 नि:शुल्क सहायता केन्द्र बनाये हैं। जिसमें इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान, सामुदायिक केन्द्र सेक्टर 1 गोमती नगर विस्तार, प्राधिकरण भवन के बारादरी हाल, लालबाग स्थित प्राधिकरण कार्यालय, एलडीए स्टेडियम अलीगंज, स्मृति उपवन कानपुर रोड, देवपुर पारा में एसएमआईजी टावर, जनेश्वर एन्क्लेव कुर्सी रोड, जागर्स पार्क हरदोई रोड और डा. राम मनोहर लोहिया पार्क चौक शामिल हैं।
बॉक्स
आवंटी कैसे जमा करेंगे 19445 रुपये प्रतिमाह किश्त
प्रधानमंत्री आवास योजना के आवंटी को प्रतिमाह 19445 रुपये की किश्त का भुगतान करना होगा। योजना में आवेदन करने के लिए वार्षिक आय 3 लाख से अधिक नहीं होनी चाहिए। आवंटन होने के बाद एक माह के भीतर 45 हजार रुपये और बकाया 3.5 लाख रुपये की धनराशि 6 त्रैमासिक किश्तों में जमा करनी होंगी। एक आम आदमी के लिए यह किश्त जमा कर पाना बहुत मुश्किल होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.