शिक्षा की गुणवत्ता में होगा सुधार, आज से इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में शुरू होगी स्कूल समिट

लखनऊ। भारत की अर्थव्यवस्था पांच ट्रिलियन की बनाने के लिए शिक्षा को एक निवेश के तौर पर देखने की जरूरत है। हम वर्तमान की शिक्षा व्यवस्था से हम फालोवर तैयार कर रहे हैं। ये बात प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने कही। श्री शर्मा 11 और 12 दिसंबर को होने वाली स्कूल समिट को लेकर लोकभवन में मंगलवार को प्रेसवार्ता कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए सरकार हर संभव कदम उठा रही है। उन्होंने कहा जब गुणवत्तापूर्ण शिक्षा होगी होगी तभी हम विकास की बात कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान शिक्षा व्यवस्था से हम फॉलोवर तैयार कर रहे हैं इनोवेटिव लीडर नहीं। कान्फ्रेंस क्लास रूम इनोवेशन की राह बनाएगी।
उन्होंने बताया कि 11 व 12 दिसंबर को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में स्कूल समिट का आयोजन किया जाएगा। जिसमें प्रदेश के सभी केंद्रीय बोर्ड व माध्यमिक स्कूल हिस्सा लेंगे। इसमें शिक्षा की गुणवत्ता, इनोवेशन व तकनीक के नए आयामों पर चर्चा होगी। आयोजन में विभिन्न प्रदेशों को शिक्षा सचिव, शिक्षा में काम करने वाले कॉर्पोरेट क्षेत्र के लोग व 1100 प्रधानाचार्य हिस्सा लेंगे। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि 18 फरवरी से यूपी बोर्ड की परीक्षा शुरू हो रही है। 14 दिन में खत्म होगी। 2017 में 11414 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। इस बार 7786 केंद्र बनाए जाएंगे। कुछ जिलों में कमांड सेंटर भी बनेंगे। उन्होंने कहा कि हर जिले में पांच-पांच अच्छे शिक्षकों का चयन कर उनके लेक्चर रिकॉर्ड किए जाएंगे और उनको स्कूल में ऑडियो-विजुअल माध्यम से पढ़ाया जाएगा।
अगले पांच साल में लागू होगी स्मार्ट क्लास
डा. दिनेश शर्मा ने कहा कि स्कूलों में गणित और अंग्रेजी विषय पर विशेष ध्यान दिया जाये इसके लिए अगले पांच सालो में स्र्माट क्लास की व्यवस्था लागू होगी। उन्होंने कहा कि सरकार इस ओर तेजी से प्रयास कर रही है कि सभी शिक्षण संस्थानों की शिक्षा व्यवस्था में सुधार हो। उन्होंने कहा योग्य शिक्षकों की तैनाती की जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

6 + fifteen =