प्रधानाचार्य ने मुस्लिम छात्रा से कहा स्कूल स्कार्फ पहनकर मत आना

लखनऊ। बाराबंकी के आनंद भवन प्राइवेट स्कूल में कक्षा सात की छात्रा और उसके अभिभावक के लिए प्रिंसिपल ने एक अजीबो गरीब फरमान लिखित रूप में जारी कर दिया। प्रधानाचार्य ने मुस्लिम छात्रा से कहा स्कूल स्कॉर्फ पहनकर आने की जरूरत नहीं है। जब इस बारे कें छात्रा के अभिभावकों ने बात की तो प्रधानाचार्य ने उन्हें भी लिखित रूप से फरमान जारी कर दिया। प्रधानाचार्य ने कहा कि स्कॉर्फ बांध कर छात्रा को स्कूल भ्ोजना है तो उसे किसी स्लामिक स्कूल में दाखिला दिलवा दीजिए। प्रधानाचार्य ने कहा कि स्कूल का जो नियम है उसे मानना पड़ेगा। वहीं, छात्रा के पिता मोहम्मद रजा रिजवी ने कहा कि यह स्कूल अल्पसंख्यकों का माना जाता है। यहां शिक्षकों का पूरा स्टाफ इसाई है। मेरी बेटी से स्कार्फ हटाने के लिए कहा गया था। जबकि इसके पहले एक छात्रा के सिर से जबरदस्ती स्कार्फ हटवा दिया गया था। अब हमें पत्र लिखकर कहा गया है कि आदेश का पालन करें या फिर बच्ची का एडमिशन किसी इस्लामिक स्कूल में करवा लें। वहीं, मामले के मीडिया में आने पर स्कूल की प्रिंसिपल अर्चना थॉमस ने सफाई दी है। उन्होंने कहा, मेरा इरादा किसी धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का नहीं था। …लेकिन ये जरूर कहा कि अगर आपको यहां के अनुशासन से दिक्कत है तो अपनी बच्ची का एडमिशन किसी और स्कूल में करवा लें।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 − two =