पीएम मोदी ने की तीन मई तक लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा, सर्शत मिलेगी लोगों को राहत

न्यूज डेस्क। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जान है तो जहान है को देखते हुए देश में तीन मई तक लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा कर दी है। प्रधानमंत्री 14 अप्रैल को देश को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने देश की जनता को धन्यवाद देते हुए कहा कि आप सबने मिलकर देश को बचाया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं समझता हूं कि देश की रक्षा में जो आप लोगों ने सहयोग किया है उसके पीछे आप लोगों को बहुत कष्ट हुआ होगा। उन्होंने कहा कि भोजन की व्यवस्था से लेकर तमाम सारी परेशारियों को सामना करना पड़ा होगा। लेकिन जान है तो जहान है। पीएम मोदी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान लोगों को हो रही परेशानियों का मुझे अहसास है। देश के मौजूदा हालात को देखते हुए लॉकडाउन बढाए जाने के पूरे आसार नजर आ रहे हैं। इस महामारी के गंभीर खतरों को देखते हुए तमाम राज्य लॉकडाउन को दो हफ्ते बढ़ाने के पक्ष में हैं। पीएम मोदी ने कहा कि आज विश्व में कोरोना वैश्विक महामारी की जो स्थिति है, आप उसे भली-भांति जानते हैं। अन्य देशों के मुकाबले, भारत ने कैसे अपने यहां संक्रमण को रोकने के प्रयास किए, आप इसके सहभागी भी रहे हैं और साक्षी भी रहे हैं।
मजबूती के साथ आगे बढ़ रही लड़ाई
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी के खिलाफ भारत की लड़ाई बहुत मजबूती के साथ आगे बढ़ रही है। आप सभी देशवासियों के सहयोग से भारत अब तक, कोरोना से होने वाले नुकसान को काफी हद तक टालने में सफल रहा है।

20 अप्रैल तक सभी सभी जिलों के कड़ी नजर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, 20 अप्रैल तक, सभी जिलों, इलाकों, राज्यों पर बारीकी से नजर रखी जाएगी, क्योंकि वे कितनी सख्ती से मानदंडों को लागू कर रहे हैं। जो राज्य हॉटस्पॉट्स को बढ़ने नहीं देंगे, उन्हें कुछ महत्वपूर्ण गतिविधियों को फिर से शुरू करने की अनुमति दी जा सकती है। लेकिन इसके लिए कुछ शर्ते रखी गयी है यदि लॉकडाउन का उल्ल्घंन होता है तो तत्काल फैसला बदला भी जा सकेगा।
रोज कमाने वालों का रखा गया ध्यान
पीएम मोदी ने कहा कि वो भी मेरा परिवार हैं, जो रोज कमाकर खाते हैं उन्होने कहा कि मेरी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में एक, इनके जीवन में आई मुश्किल को कम करना है, अब नई गाइडलइंस बनाते समय भी उनके हितों का पूरा ध्यान रखा गया है।
बिना हॉटस्पाट वाले जिलों में मिलेगी सशर्त राहत
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि और जिनके हॉटस्पॉट में बदलने की आशंका भी कम होगी, वहां पर 20 अप्रैल से कुछ जरूरी गतिविधियों की अनुमति दी जा सकती है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
कोरोना कहीं भी फैलने न देना
मेरी सभी देशवासियों से ये प्रार्थना है कि अब कोरोना को हमें किसी भी कीमत पर नए क्षेत्रों में फैलने नहीं देना है। स्थानीय स्तर पर अब एक भी मरीज बढ़ता है तो ये हमारे लिए चिंता का विषय होना चाहिए।
एक भी रोगी नहीं था फिर भी शुरू कराया स्क्रीनिंग-पीएम मोदी
पीएम ने जब भारत में एक भी कोरोना रोगी नहीं था, तब भी भारत ने कोरोना से प्रभावित देशों से यात्रियों की स्क्रीनिंग शुरू की थी। और जो भी विदेशों से भारत लौटा प्रत्येक नागरिक के लिए 14 दिनों का क्वारनटॉइन अनिवार्य किया। ताकि कोरोना वायरस भारत में पैर न पसार सके। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने समस्या के बढ़ने का इंतजार नहीं किया, बल्कि जैसे ही समस्या सामने आई, हमने तेजी से निर्णय लेकर इसे रोकने की कोशिश की। मैं सोच भी नहीं सकता कि अगर ऐसे त्वरित निर्णय नहीं लिए जाते तो क्या स्थिति होती।
महाराष्ट्र में 2,334 मामलें
स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार महाराष्ट्र में 2,334 मामलों की पुष्टि हो गई है। इनमें से 217 लोग ठीक हुए हैं और 160 लोगों की मौत हो गई है। वहीं, दिल्ली में अब तक 1510 मामने सामने आए हैं। इनमें से 30 लोग ठीक हो गए हैं और 28 लोगों की मौत हो गई है। इसके अलावा तमिलनाडु में 1173 मामलों की पुष्टि हो गई है। इनमें से 58 लोग ठीक हो गए हैं और 11 लोगों की मौत हो गई है।

कई मंत्री और अफसर काम पर लौटे
कई केंद्रीय मंत्रियों ने अपने मंत्रालयों में आना शुरू कर दिया है। संयुक्त सचिव स्तर के अधिकारी भी दफ्तरों में कामकाज पर लौटने लगे हैं। सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर, अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, रेल मंत्री पीयूषष गोयल व अन्य कई मंत्री सोमवार को कार्यालय पहुंचे। संयुक्त सचिव एवं इससे ऊंचे स्तर के सभी अधिकारियों को भी अब एक तिहाई स्टाफ के साथ उपस्थित रहने का निर्देश मिला है। प्रधानमंत्री मोदी ने सोमवार को पीएमओ और तमाम मंत्रालयों के आला अफसरों के साथ मंत्रणा भी की।

सात राज्यों ने अपने सूबों में 30 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ाया
आर्थिक चुनौतियों को देखते हुए प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों के साथ 11 अप्रैल को हुई वीडियो कांफ्रेंसिंग में स्पष्ट कर दिया था कि लॉकडाउन अब जान भी जहान भी के मंत्र पर आगे बढ़ा जाएगा। परिस्थितियों को देखते हुए सरकार कृषि कार्यो और मंडियों के कारोबार को फिजिकल डिस्टेंसिंग के प्रावधानों के साथ पहले ही आवश्यक कार्यो की सूची में रखते हुए छूट दे चुकी है। महाराष्ट्र, राजस्थान, ओडिशा, बंगाल और तमिलनाडु समेत सात राज्यों ने अपने सूबों में 30 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ाए जाने की घोषणा पहले ही कर दी है।
महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा मामले
कोरोना वायरस के महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 1985 मामले सामने आए हैं। वहीं, दिल्ली में 1154 और तमिलनाडु में 1075 मामलों की पुष्टि हो गई है। भारत में कोरोना वायरस से 324 लोगों की मौत स्वास्थ्य मंत्रालय को अनुसार भारत में कोरोना वायरस के 9352 मामले सामने आ गए है। इनमें से 980 लोग ठीक हो गए हैं और 324 लोगों की मौत हो गई है।
तीन जोन में बंटा है देश
सरकार ने लॉकडाउन के दौरान कोरोना की चुनौती से निपटने के लिए देश को तीन क्षेत्रों रेड, ऐलो और ग्रीन जोन में बांटा गया है। रेड जोन में जहां कोरोना महामारी का संकट है वहां लॉकडाउन के साथ हॉट स्पॉट के इलाकों को सील रखा जाएगा। वहीं ऐलो जोन में जहां कोरोना के मामले ज्यादा नहीं हैं। जबकि ग्रीन जोन आर्थिक गतिविधियों को स्थानीय स्तर पर जारी रखने की छूट का प्रस्ताव है।

पीएम मोदी के साथ ऑनलाइन बैठक में सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी लॉकडाउन बढ़ाये जाने पर जतायी थी सहमति

न्यूज डेस्क। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 अप्रैल को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ ऑनलाइन बैठक भी की थी। इस दौरान सभी राज्यों के सीएम ने अपने सुझाव दिया था जिसके बाद केन्द्र सरकार ने लॉकडाउन बढ़ाये जाने के लिए मॉस्टर प्लान तैयार किया था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक शनिवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यूपी, पंजाब, दिल्ली, हरियाणा समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों से ऑनलाइन मीटिंग की। मीटिंग की खासियत यह रही है कि प्रधानमंत्री मोदी के साथ सभी राज्यों के सीएम एक जुट दिखे और एक दूसरे के सुझावों पर सहमति जताते भी नजर आये। (प्रतिष्ठित समाचार एजेंसी एएनआइ) के मुताबिक मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम मोदी की इस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उद्योग और कृषि क्षेत्रों के लिए विशेष रियायतों के अलावा कम से कम एक पखवाड़े(15 दिन) तक देश भर में लॉकडाउन की सिफारिश की है, साथ ही उन्होंने रैपिड टेस्टिंग किट की भी मांग की।

मुख्‍यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग में पीएम मोदी ने कहा था कि जान है तो जहान है, जब मैंने राष्ट्र के नाम सन्देश दिया था, तो प्रारम्भ में बल दिया था कि हर नागरिक की जान बचाने के लिए लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंशिंग का पालन बहुत आवश्यक है,देश के अधिकतर लोगों ने बात को समझा और घरों में रहकर दायित्व निभाया। और अब भारत के उज्जवल भविष्य के लिए समृद्ध और स्वस्थ भारत के लिए जान भी जहान भी दोनों पहलुओं पर ध्यान आवश्यक है, जब देश का प्रत्येक व्यक्ति जान भी और जहान भी, दोनों की चिंता करते हुए अपने दायित्व निभाएगा, सरकार और प्रशासन के दिशा-निर्देशों का पालन करेगा।
पंजाब में पहले से बढ़ी है लॉकडाउन की सीमा
मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बैठक के दौरान जानकारी दी कि पंजाब सरकार ने पहले ही 1 मई तक कर्फ्यू या पूर्ण लॉकडाउन का फैसला कर लिया है और सभी शैक्षणिक संस्थानों को 30 जून तक बंद कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि अगले आदेश तक राज्य बोर्ड की परीक्षाएं भी टाल दी गई हैं।
केजरीवाल ने की मांग बढ़ायी जाये लॉकडाउन की अवधि
इससे पहले दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम मोदी की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में प्रधानमंत्री मोदी को सुझाव दिया कि पूरे देश में 30 अप्रैल तक लॉकडाउन को बढ़ाया जाए।
रेल हवाई यात्रा पर प्रतिबंध जारी रखें-सीएम छत्तीसगढ़
समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पीएम मोदी के साथ आज बैठक में अंतर्राज्यीय सड़क, रेल, हवाई सुविधाओं पर प्रतिबंध जारी रखने की सलाह दी है, वहीं सीएम भूपेश बघेल ने पीएम मोदी से राज्यों को सीमाओं के भीतर आर्थिक गतिविधियों को करने की अनुमति देने का आग्रह किया है।
ये बैठक है महात्वपूर्ण कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा
कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा जिन्होंने प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस में भाग लिया, उन्होंने जानकारी दी कि कोरोना वायरस की स्थिति और नियंत्रण को कम करने के बारे में नरेंद्र मोदी के साथ चर्चा हुई। उन्होंने बताया कि चर्चा महत्वपूर्ण थी। इस बैठक में राज्यों में लागू की जाने वाली रणनीतियों पर भी चर्चा हुई। उन्होंने आश्वासन दिया कि सरकार सब कुछ कर रही है। महामारी से निपटने और लोगों से घर पर रहने का अनुरोध किया किजल्द से जल्द कोरोनोवायरस प्रकोप से छुटकारा पाएं।
मुंह ढकने में पीएम मोदी ने किया था गमछे का इस्तेमाल
इस बैठक के दौरान पीएम मोदी चेहरे पर मास्क(गमछा) पहने नजर आए। प्रधानमंत्री के साथ हो रही इस महत्वपूर्ण बैठक में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल,पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, तेलंगाना के सीएम केसीआर राव समेत अन्य राज्यों के मुख्यमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल हुए।
ओडिशा में 30 अप्रैल तक लॉकडाउन
ओडिशा सरकार ने पहले ही अपने यहां लॉकडाउन को 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया है। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने एक कदम आगे बढ़ते हुए मुख्यमंत्रियों की पीएम के साथ बैठक से पहले ही लॉकडाउन की घोषणा कर दी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

19 − fifteen =