गोंडा में पुजारी हत्याकांड: पुलिस का खुलाशा, सात को दबोचा

न्यूज डेस्क। यूपी के गोंडा में राम जानकी मंदिर के पुजारी की हत्या की साजिश मंहत और प्रधान ने मिलकर रची थी। पुलिस इस इस केस का खुलाशा करते हुए सात लोगों को गिरफ्तार किया है। इस गोली कांड में गांव के पूर्व प्रधान समेत चार लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया था। मामला कोतवाली इटियाथोक क्षेत्र के तिर्रे मनोरमा का है। यहां के राम जानकी मंदिर के पुजारी को बीते 10 अक्टूबर की रात लगभग दो बजे गोली मारकर घायल कर दिया गया था। गोली उनके बाएं कंधे पर लगी थी। इस मामले में मंदिर के महंत सीताराम दास ने गांव के पूर्व प्रधान अमर सिंह, मुकेश सिंह, भयहरण सिंह व दारोगा सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। इसमें दो आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। जिलाधिकारी डॉ. नितिन बंसल व पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार पांडेय ने बताया कि आरोपितों की गिरफ्तारी व मामले की जांच के लिए एएसपी महेंद्र कुमार के नेतृत्व में टीमें गठित की गई थी। पुलिस जांच के दौरान पाया गया कि तिर्रेमनोरमा के प्रधान विनय सिंह व मंदिर के महंत सीताराम दास ने मिलकर घटना की साजिश रची थी। एसपी ने बताया कि मंदिर की करीब 120 बीघा जमीन है। जिसका विवाद महंत व अमर सिंह के बीच चल रहा था। अमर सिंह जल्द ही जेल से बाहर आया था। वहीं प्रधान विनय सिंह आने वाले पंचायत चुनाव में अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए अमर सिंह को फंसाना चाहते थे।
ये हुए गिरफ्तार
साजिशकर्ताओं में विनय सिंह के दो पुत्र सूरज व नीरज के अलावा तिर्रेमनोरमा के मुन्ना सिंह, शिवशंकर सिंह, सूरज सिंह, मध्यप्रदेश रीवां के निवासी महंत वृंदारण त्रिपाठी उर्फ सीताराम दास व विपिन द्विवेदी तथा पुजारी सम्राट दास उर्फ अतुल त्रिपाठी शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here